लाहौर: तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान (टीएलपी) के प्रमुख अल्लामा खादिम हुसैन रिजवी का लंबी बीमारी के बाद गुरुवार को लाहौर के एक अस्पताल में निधन हो गया।

हाल ही में उन्होने फ्रांस के खिलाफ जोरदार विरोध प्रदर्शन किया था। टीएलपी के प्रदर्शन के चलते रावलपिंडी और इस्लामाबाद को सील करना पड़ गया था।

54 वर्षीय अल्लामा रिज़वी पिछले कुछ दिनों से बुखार से पीड़ित थे। तेज बुखार और सांस की तकलीफ के कारण, उन्हें गुरुवार रात शेख जायद अस्पताल में स्थानांतरित कर दिया गया, जहां उन्हें घातक दिल का दौरा पड़ा।

एक वीडियो फुटेज में अस्पताल में समर्थकों को दिखाया गया, जो खादिम हुसैन रिजवी की मौत पर शोक व्यक्त कर रहे थे।

मौलाना रिज़वी के शरीर को लाहौर में उनके निवास स्थान पर स्थानांतरित कर दिया गया, जहाँ बड़ी संख्या में पार्टी के नेता और समर्थक एकत्रित हुए थे। उनकी मौत की खबर फैलते ही दूसरे शहरों से बड़ी संख्या में टीएलपी समर्थक लाहौर पहुँच गए।

प्रधानमंत्री इमरान खान और कई मंत्रियों सहित धार्मिक और राजनीतिक नेताओं ने रिजवी को श्रद्धांजलि दी। धार्मिक विद्वानों ने कहा कि अल्लामा रिज़वी के निधन के बाद हुई खाली जगह जी भरना कठिन हो जाएगा।

Loading...
विज्ञापन
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano