islamic cultural office

एक आयरिश मस्जिद ने एक ऐसा काम किया है जिसकी दुनिया भर में सराहना की जा रही है. इस मस्जिद ने उन सभी भूखों और बेसहारा लोगों के लिए दरवाज़े खोले है. दरअसल एम्मा तूफान के दौरान बेघर लोगों को आश्रय के लिए इजाज़त दी गयी है. अब बेसहारा लोगों को दर-दर भटकने की ज़रूरत नहीं है.

डबलिन में क्लॉन्स्केआग मस्जिद, बेघर लोगों को अपने बड़े इवेंट हॉल में बेघर लोगों को आश्रय देगी. आपको बता दें कि यहाँ का तापमान -10 डिग्री सेल्सियस तक गिरा है.

सामुदायिक कल्याण विभाग के प्रमुख आयरलैंड के इस्लामिक सांस्कृतिक केंद्र, सुमायाह केना ने कहा,

“हमारी एक सुरक्षा टीम रात को ड्यूटी पर तैनात होगी. इसी के साथ रखरखाव टीमों को सतर्क कर दिया गया है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि मस्जिद के हॉल में पर्याप्त हीटिंग हो, ख़ास तौर से देर रात को .”

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इसके अलावा लोफ्गों को मस्जिद के रेस्तरां में दो फ्री भोजन वाउचर भी दिए जाएंगे. जिससे इन लोगों को खाना मिल सकेगा. इसी के साथ, 4 मार्च को जरूरतमंद लोगों और बेसहारा लोगों को घर भी दिए जाएँगे. हाल ही में इन लोगों को मस्जिद की तरफ से बिस्तर दिए जा रहें है ताकि कोई ठण्ड की चपेट में ना आ सकें.

साथ ही साथ आयरलैंड और पूरे ब्रिटेन भर में मस्जिद द्वारा इन लोगों की मदद की जा रही है.

फिन्सबरी पार्क मस्जिद इन बेघर लोगों को गर्म-गर्म खाना देकर उनकी मदद कर रहा है. दिसंबर 2017 में बज़फिड ने ग्रेनफेल टॉवर फायर के मुख्य प्रतिद्वंदियों में से एक, अल-मन्नार मस्जिद में भी सूचना दी थी जिसमें दसियों लोग मारे गए थे. इस मस्जिद में भी बेघर लोगों को आश्रय दिया गया और भूखे लोगों को खाना खिलाया गया.