UN Special Rapporteur on Myanmar Yanghee Lee (center) visits a site in Rakhine state, Myanmar, January 9. (Photo by AFP)
UN Special Rapporteur on Myanmar Yanghee Lee (center) visits a site in Rakhine state, Myanmar, January 9. (Photo by AFP)

म्यांमार में रोहिंग्या मुसलमानों पर बौद्ध समुदाय के आतंकियों और सुरक्षा बलों के हाथों बड़े पैमाने पर अत्याचार हो रहा हैं. इस बात की पुष्टि सयुंक्त राष्ट्र की जांच ने की हैं.

सयुंक्त राष्ट्र संघ की और से अपने प्रतिनिधि के रूप में 12 दिन की जांच के लिए म्यांमार भेजी गई यांग ली ने अपनी जांच के बाद कहा कि म्यांमार में रोहिंग्या मुसलमानों की स्थिति की समीक्षा के बाद इस बात की पुष्टि की है कि वहां पर मुसलमानों के विरुद्ध हिंसक कार्यवाहियां की गई हैं.

12 दिनों की जांच में यांग ली को राख़ीन राज्य, आर्थिक राजधानी यांगून, म्यांमार की राजधानी नायपीदा और उत्तरी राज्य काचीन का दौरा करना था. हालांकि बाद में म्यांमार सरकार ने सुरक्षा कारणों का हवाला देते हुए कई इलाकों में उन्हें जाने की इजाजत नहीं दी थी.

ली ने राखिने में सैन्य कार्रवाई को “अस्वीकार्य” करार देते हुए कहा था कि सैनिकों द्वारा मुस्लिम अल्पसंख्यकों के सदस्यों के साथ बलात्कार, हत्या और उन्हें यातना देने की रिपोर्टो की जांच करना आवश्यक था.

याद रहे कि 9 अक्तूबर 2016 को म्यांमार के राख़ीन प्रांत के नगर माउंगदाओ में सशस्त्र लोगों ने हमले किये थे जिसमें कम से कम 100 रोहिंग्या मुसलमान मारे गए थे इन हिंसक हमलों के कारण साठ हज़ार से अधिक रोहिंग्या मुसलमान, म्यांमार छोड़कर बांग्लादेश भाग गए थे.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें