hak

hak

रोहिंग्या संकट को लेकर एक बार फिर से बांग्लादेश ने चेतावनी देते हुए कहा कि रोहिंग्या संकट सिर्फ म्यांमार और बांग्लादेश ही नहीं बल्कि पूरे क्षेत्र को अस्थिर कर सकता है.

बांग्लादेश के विदेश सचिव मोहम्मद शाहिदुल हक ने रुवार को अपने भारतीय समकक्ष एस. जयशंकर और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत दोभाल से मुलाकात के बाद कहा कि म्यामांर में समस्या उत्पन्न की गई है तो हल भी वहीं निकलेगा. इस समस्या के हल के लिए रूपरेखा तैयार की जा रही है.’

उन्होंने इसे ‘जातीय सफाया’ करार देते हुए कहा कि हमने अंतरराष्ट्रीय समुदाय को इस बात से परिचित करा दिया गया है कि म्यांमार रोहिंग्या मुस्लिमों के ‘अधिकारों को छीन’ रहा है. उन्होंने कहा कि बांग्लादेश आये शरणार्थी में रोहिंग्या मुस्लिम के अलावा हिंदू और ईसाई भी हैं.

उन्होंने कहा कि हम म्यामांर सरकार की मदद कर सकते हैं लेकिन बांग्लादेश में शरण लेने से रोहिंग्या समस्या का समाधान नहीं निकलेगा. हम चाहते हैं कि वो जल्द से जल्द यहां से वापस अपने घर जाएं. हमने लिखित तौर पर म्यांमार को प्रस्ताव भेजा है कि किस तरह वो रोहिंग्याओं को वापस बुला सकते हैं.

म्यांमार के हिंसाग्रस्त इलाकों में हिंदुओं की सामूहिक कब्रें मिलने के सवाल पर हक ने कहा कि वहां जो भी लोग जातीय सफाये में जुटे हैं वे वास्तव में हिंदू या मुस्लिमों के बीच अंतर नहीं करते. वे पूरे क्षेत्र को साफ करके फ्री जोन बनाना चाहते हैं.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?