ye

ye

यमन की विमानन संस्था के प्रवक्ता ने कहा है कि सऊदी गठबंधन ने यमन में मानवीय सहायता पहुंचाने वाले जहाज़ों की उड़ानों पर रोक लगा दी है।

यमन की विमानन संस्था के प्रवक्ता माज़िन ग़ानिम ने अपने बयान में कहा है कि ओमान की राजधानी अम्मान में मौजूद 220 सहायताकर्मी, यमन की राजधानी सनआ में अपनी मानवीय ज़िम्मेदारियों को निभाने के लिए नहीं पहुंच सके जबकि सनआ में मौजूद संयुक्त राष्ट्र संघ और अंतर्राष्ट्रीय मानवीय सहायता पहुंचाने वाली संस्थाओं के 310 सहायताकर्मी फंसे हुए हैं।

उनका कहना था कि छह नवंबर 2017 से यमन के लिए उड़ानों पर प्रतिबंधों को कड़ा कर दिया गया है। सऊदी अरब ने संयुक्त राष्ट्र संघ, डाक्टर्स विदाउट बाॅडर्स, विश्व खाद्य संस्था और यूनीसेफ़ के जहाज़ों की उड़ानों के लिए परीमशन जारी नहीं किया है।

यमन की विमानन संस्था ने सुरक्षा परिषद, संयुक्त राष्ट्र संघ और अन्य अंतर्राष्ट्रीय संस्थाओं से मांग की है कि वह सऊदी गठबंधन को यमन और इस के हवाई अड्डों का घेराव समाप्त करने के लिए मजबूर करें।

सऊदी गठबंधन द्वारा यमन के परिवेष्टन के कड़ा किए जाने के कारण इस निर्धन अरब देश में मानवीय स्थिति संकटमयी हो गयी है।

दूसरी ओर यमनी सेना के हमले में तइज़ प्रांत में दसियों सऊदी एजेन्ट मारे गये और घायल हुए। यमनी सेना की इस कार्यवाही में दर्जनों सऊदी एजेन्टों को गिरफ़्तार भी किया गया है।

सऊदी अरब ने अमरीका, संयुक्त अरब इमारात और कई देशों के समर्थन से मार्च 2015 से हमला करके यमन का ज़मीनी, हवाई और समुद्री परिवेष्टन कर रखा है।

सऊदी अरब द्वारा यमन पर थोपे गये युद्ध के कारण 13 हज़ार से अधिक लोग हताहत और दसियों हज़ार लोग घायल हो चुके हैं जबकि इस देश में खाद्य पदार्थों और दवाओं की कमी का सामना है और विभिन्न प्रकार की घातक बीमारियां फैल रही हैं।

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें