पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर की शीर्ष अदालत के कर्मचारियों को अपनी तनख्वाह में वृद्धि के लिए नमाज को पाबंदी के साथ अदा करनी होगी.

12वें मुख्य न्यायाधीश की शपथ लेने वाले पीओके की सुप्रीम कोर्ट के न्यायमूर्ति इब्राहिम जिया ने अदालतकर्मियों को अदालत और नमाज के समय का पालन सुनिश्चित करने का आदेश दिया है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

उन्होंने कहा कि अदालत कर्मचारियों की सालाना वेतन वृद्धि अब निर्धारित नमाज को पाबंदी के साथ वक्त पर अदा करने पर निर्भर होगी. इसी के साथ उन्होंने कर्मचारियों के लिए नमाज को अनिवार्य करार दिया.

न्यायमूर्ति इब्राहिम जिया ने अदालतकर्मियों को अदालत और नमाज के समय का पालन सुनिश्चित करने का आदेश दिया है. याद रहें इस्लाम धर्म में मुस्लिमों पर दिन में पांच बार निर्धारित समय नमाज अदा करना फर्ज हैं.

Loading...