syria3_ctew

सीरियाई सरकार और विद्रोही गुटों के बीच संघर्षविराम पर सहमति बन चुकी हैं. साथ ही तुर्की और रूस ने भी पूरे सीरिया के लिए एक संघर्ष विराम योजना पर सहमति जताई हैं. इस बात की घोषणा रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने की है. उन्होंने कहा,  दोनों पक्ष शांति वार्ता के लिए राज़ी हो गए हैं.

सरकारी अंदोलू समाचार एजेंसी ने कहा है कि इस योजना का लक्ष्य अलेप्पो शहर में संघर्ष विराम का विस्तार करना है, जिसकी मध्यस्थता तुर्की और रूस ने इस महीने की शुरुआत में की थी, ताकि समूचे देश से नागरिकों की निकासी की इजाजत मिल सके.

अगर यह सफल होती है तो यह योजना दमिश्क और विपक्ष के बीच कजाकिस्तान की राजधानी अस्ताना में राजनीतिक संवाद का आधार तैयार कर सकती है. तुर्की के विदेश मंत्री मेवलुत कावुसोगलु ने पहले ही कह चुके थे कि तुर्की और रूस इस योजना के तहत संघर्षविराम की गारंटी लेते हैं.

समाचार एजेंसी ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि संघर्ष विराम की पिछली योजनाओं की तरह इससे आतंकी संगठनों को बाहर रखा गया है. पिछली योजनाओं की मध्यस्थता अमेरिका और रूस ने की थी. एजेंसी के मुताबिक तुर्की और रूस योजना को आधी रात से लागू कराने के लिए काम करेंगे.

ये संघर्षविराम इस्लामिक स्टेट और जाभात फ़तेह अल-शाम (पूर्व नुसरा फ़्रंट) पर लागू नहीं होगा. दरअसल रूस और तुर्की दोनों देश सीरिया में अलग-अलग पक्षों का समर्थन कर रहे हैं. तुर्की विद्रोही गुटों का समर्थन कर रहा है तो वहीं रूस सीरियाई सरकार का समर्थन कर रहा है.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें