अमेरिका में एक नस्लवादी को अश्वेत व्यक्ति को ट्रक से बांधकर घसीटने के मामले में जहर का इंजेक्शन देकर मौत की सजा दे दी गई। टेक्सास के हंट्सविले में टेक्सास स्टेट पेनिटेन्चरी (जेल) में रात 7.08 बजे जॉन विलियम किंग (44) को जहर का इंजेक्शन देकर मौत की नींद सुला दिया गया।

किंग उन तीन श्वेत व्यक्तियों में शामिल था जिन्हें 1998 में जेम्स बर्ड जूनियर की हत्या का दोषी ठहराया गया था। लॉरेंस ब्रेवर को 2011 में मौत की सजा दी गई थी जबकि जांच में जांचकर्ताओं का साथ देने वाले शॉन बेरी को आजीवन कारावास की सजा दी गई।

बेरी ने सुनवाई के दौरान स्वीकार किया था कि वह और दो अन्य लोग बीयर पी रहे थे और देश के दूरदराज की एक सड़क पर 1982 फोर्ड पिकअप ट्रक से बर्ड को बांध कर घसीटा और इसके चलते उसकी मौत हो गई थी।

टेक्सास के डिपार्टमेंट ऑफ क्रिमिनल जस्टिस जेरेमी डेसेल के अनुसार, किंग ने अपनी आँखें बंद कर लीं और वार्डन ने  जब उनसे पूछा कि क्या उनके पास कोई अंतिम शब्द है। किंग ने एक लिखित बयान दिया जिसमें कहा गया, “कैपिटल पनिशमेंट।”

डेसेल ने कहा कि उसे सज़ा देने में  देरी हुई क्योंकि मामला शाम 6:56 बजे आगे बढ़ने से पहले अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट में चला गया। क्लारा बर्ड टेलर ने कहा कि अपने भाई के हत्यारे को मरते हुए देखकर उसे कुछ बुरा नहीं लगा।

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें