नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सऊदी अरब के शहजादे मोहम्मद बिन सलमान बिन अब्दुल अजीज अल सऊद ने बुधवार को साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस की। भारत और सऊदी अरब के बीच पांच समझौते हुए। इस मौके पर पीएम मोदी ने कहा कि सऊदी के प्रिंस का स्वागत करके खुश हूं। दोनों देशों के बीच सदियों पुराने संबंध हैं। दोनों के बीच द्विपक्षीय संबंध मजबूत हुए। निवेश और व्यापार क्षेत्र में नया विस्तार हुआ है। दोनों देशों ने आर्थिक संबंधों को नई ऊंचाई पर पहुंचाया। दोनों देश रणनीतिक काउंसिल बनाएंगे। दोनों देशों में ऊर्जा को लेकर नए करार हुए। रक्षा सहयोग पर चर्चा सफल रही।

पीएम मोदी ने कहा, भारत और सऊदी अरब के आर्थिक, सामाजिक और सांस्कृतिक संबंध सदियों पुराने हैं। और यह सदैव सौहार्द्रपूर्ण और मैत्रीपूर्ण रहे हैं। हमारे लोगों के बीच के घनिष्ठ और निकट संपर्क हमारे देशों के लिए एक सजीव सेतु यानी living bridge है। पीएम ने कहा, आज हमने द्विपक्षीय संबंधों के सभी विषयों ​​पर व्यापक और सार्थक चर्चा की है। हमने अपने आर्थिक सहयोग को नई ऊंचाइयों पर ले जाने का निश्चय किया है।

Loading...

वहीं सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस ने कहा कि अतिवाद और आतंकवाद हमारी कॉमन चिंताएं हैं। हम अपने मित्र भारत को बताना चाहते हैं कि हम सभी मोर्चों पर सहयोग करेंगे, इसमें खुफिया जानकारी साझा करना है। हम अपनी आने वाली पीढ़ियों के लिए एक उज्जवल भविष्य सुनिश्चित करने के लिए हर किसी के साथ काम करेंगे।

क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान के बयान से साफ है कि सऊदी अरब ना सिर्फ भारत बल्कि पाकिस्तान की भी मदद करने को तैयार है। गौरतलब है कि पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने मंगलवार को ही बयान दिया था कि उनका देश भी आतंकवाद से पीड़ित है।

आपको बता दें कि भारत आने से पहले सऊदी अरब के प्रिंस पाकिस्तान के दौरे पर थे। जहां उन्होंने पाकिस्तान की तारीफ में कसीदे पढ़े थे, साथ ही ये भी ऐलान किया था कि सऊदी अरब पाकिस्तान में 20 अरब डॉलर का निवेश करेगा। इतना ही नहीं पाकिस्तान की तारीफ करते हुए उन्होंने ये भी कहा कि सऊदी अरब में वह ही पाकिस्तान की ब्रांड एंबेसडर हैं।

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें