इराक़ से अलग स्वतंत्र कुर्दिस्तान की मांग को लेकर हो रहे जनमत संग्रह से मध्य-पूर्व में तनाव का माहौल है. जिसके चलते इराक, ईरान और तुर्की ने कड़ा रुख इख़्तियार किया हुआ है.

इस विवादास्पद जनमत संग्रह के बाद तुर्की और इराक ने तुर्की-इराकी सीमा पर संयुक्त सैन्य अभ्यास शुरू कर दिया है. ध्यान रहे राष्ट्रपति रजब तैयब अर्दोग़ान ने पहले ही धमकी दे दी कि इराक़ के कुर्दिस्तान क्षेत्र के अधिकारियों की ओर से एकपक्षीय कार्यवाहियों की स्थिति में अंकारा, कुर्दिस्तना के विरुद्ध सैन्य कार्यवाही कर सकता है.

अर्दोग़ान ने कहा है कि हमारे सैनिक, इराक़ के कुर्दिस्तान क्षेत्र की सीमा के निकट अकारण ही एकत्रित नहीं हुए हैं. वहीँ इराक की संसद ने भी कुर्दिस्तान में सैन्य अभियान की इजाजत दे दी है.

आप को बता दे कि संयुक्त राष्ट्र के साथ-साथ बगदाद, तुर्की, यू.एस., ईरान सभी इस मतदान के खिलाफ है.  सभी का कहना है कि इस कदम से केवल यह क्षेत्र अस्थिर करेगा. साथ ही आतंक के खिलाफ लड़ाई कमजोर होगी.

उल्लेखनीय है कि अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर विरोध के बावजूद इराक़ के कुर्दिस्तान में सोमवार 25 सितंबर को जनमत संग्रह आयोजित करवाया गया. जिसका समर्थन केवल इजरायल ने ही किया है.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?