उत्तरी सीरिया के एक गांव में मस्जिद पर अमेरिकी विमानों की और से की गई बमबारी में 42 नमाजियों की मौत हो गई. लगभग दर्जनों लोग घायल हैं.

सीरियन ऑब्जर्वेटरी फार ह्यूमन राइट्स के प्रमुख रामी अब्देल रहमान ने कहा कि लड़ाकू विमानों ने अलेप्पो प्रांत की एक मस्जिद पर शाम की नमाज के वक्त हवाई हमला किया. जिसमें 42 लोग, ज्यादातर आम नागरिक, मारे गए और सौ से अधिक लोग घायल हो गए.’

लंदन स्थित इस संगठन के प्रमुख रामी अब्दुल रहमान का कहना है कि अमरीकी युद्धक विमानों ने मस्जिद पर उस समय बमबारी की जब वहां इशा की नमाज़ के लिए काफ़ी बड़ी संख्या में लोग उपस्थित थे. अमरीकी सेना ने इस हमले की पुष्टि करते हुए कहा है कि हमले में आम नागरिकों की मौत की जांच की जाएगी.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

अमेरिकी सेना के प्रवक्ता कर्नल जॉन जे थॉमस ने कहा, ‘हमने मस्जिद को निशाना नहीं बनाया बल्कि उस इमारत को निशाना बनाया जिसमें अलकायदा की बैठक हुई थी. यह मस्जिद से 15 मीटर दूर है. मस्जिद अभी भी वहां है.’ उन्होंने कहा, ‘अमेरिकी बलों ने 16 मार्च को अलकायदा के बैठक स्थान इदलिब में हवाई हमला किया, जिसमें अनेक आतंकवादी मारे गए.’

हालांकि बाद में प्रवक्ता ने कहा कि अभी हमले के स्थल की सटीक जानकारी नहीं हैं, लेकिन यह वही है जहां अल जिनेह गांव की एक मस्जिद को निशाना बनाने की खबरें आ रहीं हैं.

गांव निवासी अबु मुहम्मद ने कहा, ‘नमाज खत्म होने के ठीक बाद तेज धमाके की आवाजें सुनी. मैंने 15 लाशें और मलबे में पड़े और कई सारे लोग दिखे.’ 6 साल पहले सरकार के खिलाफ विरोध शुरू होने के बाद से सीरिया में तीन लाख 20 हजार से अधिक लोग मारे जा चुके हैं.

Loading...