सऊदी अरब सहित उसके सहयोगी देशों द्वारा की गई ईरान के साथ रिश्तों को खत्म करने की मांग को नकार एक कदम आगे जाते हुए क़तर ने अब ईरान में अपना राजदूत नियुक्त करने का फैसला किया है.

क़तर के विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि दोहा ने यह क़दम दोनों देश के बीच संबंध बेहतर करने के उद्देश्य से उठाया है. ध्यान रहे क़तर ने पिछले साल जनवरी में सऊदी अरब के दबाव में तेहरान से अपना राजदूत दोहा वापस बुला लिया था.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

क़तर के विदेश मंत्री मोहम्मद बिन अब्दुर्रहमान आले सानी ने अपने ईरानी समकक्ष मोहम्मद जवाद ज़रीफ़ से टेलीफ़ोन पर संपर्क कर उन्हें क़तर के राजदूत के तेहरान लौटने की सूचना दी है.

हाल ही सऊदी अरब की पाबंदियों के बाद से ही क़तर और ईरान तेजी से एक-दुसरे के नजदीक आ रहे है. क़तर के रक्षा मंत्री ने कहा था कि सऊदी अरब की क़तर के ख़िलाफ़ अन्यायपूर्ण पाबंदियों के बाद ईरान ने अपनी हवाई सीमा क़तर के लिए खोल कर दोहा नया जीवन दान दिया.

ख़ालिद बिन मोहम्मद अलअतीया ने कहा कि ईरान ने क़तर की उड़ानों के लिए अपनी हवाई सीमा को खोलने के साथ साथ दोहा को खाद्य पदार्थ की आपूर्ति सहित उसकी कई ज़रूरतों को पूरा किया है.

Loading...