श्रीलंका: इस्तीफा देने के बाद फिर से सरकार में शामिल हो सकते है मुस्लिम मंत्री

10:02 am Published by:-Hindi News

श्रीलंका में ईस्टर पर हुए आत्मघाती हमलों के बाद इस्लामिक चरमपंथियों का समर्थन करने का आरोप झेल रहे मुस्लिम मंत्रियों ने इस्तीफा दे दिया था। इससे पहले बौद्ध समुदाय के भिक्षुओं के आमरण अनशन और इलाके के तनावपूर्ण माहौल को देखते हुए दो मुस्लिम गर्वनरों ने इस्तीफा दिया था। इसके कुछ देर बाद ही सभी मुसलमान मंत्रियों ने भी इस्तीफा दे दिया।

हालांकि अब सभी नौ मुस्लिम मंत्री दोबारा सरकार में शामिल हो सकते हैं। दरअसल, बौद्ध नेताओं ने इस्तीफा देने वाले मुस्लिम मंत्रियों से मंत्रिमंडल में फिर से शामिल होने का आग्रह किया है। एक बौद्ध सांसद के आमरण अनशन पर बैठने के बाद देश में शुरू हुए प्रदर्शनों की वजह से 3 जून को श्रीलंका के नौ मुस्लिम मंत्रियों ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था। मंत्रियों के अलावा दो मुस्लिम गवर्नरों ने भी अपना पद छोड़ दिया था।

बौद्ध सांसद ने आरोप लगाया था कि कुछ मुस्लिम मंत्रियों के संबंध आतंकी हमलों के लिए जिम्मेदार कट्टरपंथी संगठन नेशनल तौहीद जमात (एनटीजे) से हैं, जिसकी विस्तृत जांच होनी चाहिए और तब तक इन मंत्रियों अपना पद छोड़ देना चाहिए।  मंत्रिपद छोड़ने वाले मंत्रियों में एक एएचएम हलीम ने शनिवार को कहा, ‘सरकार में शामिल होने को लेकर कई बौद्ध नेताओं ने हमसे आग्रह किया है। इस बाबत 18 जून को बैठक होनी है, जिसके बाद ही कोई निर्णय लिया जाएगा।’

बौद्ध भिक्षु अतुरालिए रतना थिरो ने मंत्री रिशाद बाथिउद्दीन और गवर्नर एएलएएम हिज़्बुल्लाह और अजत सैली के इस्तीफ़े की मांग करते हुए भूख हड़ताल शुरू की थी। जिसके बाद पश्चिमी प्रांत के गर्वनर अजथ सल्ली और पूर्वी प्रांत के गवर्नर एमएएलएम हिसबुल्ला ने अपने इस्तीफे राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना को सौंप दिए।

इसके कुछ देर बाद ही आतंकवादियों को समर्थन करने के आरोपों का विरोध करते हुए केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल सभी आठ मुस्लिम मंत्रियों, उप मंत्रियों और राज्य मंत्रियों ने एकजुट होकर इस्तीफा दे दिया। इनमें शामिल तीन मंत्रियों और पांच कनिष्ठ मंत्रियों ने अपने विभागों से इस्तीफा दिया।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें