प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अपने दो दिवसीय अमेरिकी दौरे पर अल्पसंख्यक समुदायों के विरोध का सामना करना पढ़ा है. रिट्ज कार्लटन के बाहर सैंकड़ों सिखों ने देश भर में अल्पसंख्यकों पर हो रहे हमलों के विरोध में ये प्रदर्शन आयोजित किया.

इस दौरान सिख समुदाय के लोग “Don’t Invest in India” के बैनर के साथ अपना विरोध जता रहे थे. रैली में मोदी प्रशासन के अत्याचारों पर ध्यान केंद्रित किया गया, जिसके चलते भारत में रहने वाले सिख, मुस्लिम, ईसाई और अन्य अल्पसंख्यकों को मारा जा रहा है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

एसएफजे के कानूनी सलाहकार, अटर्नी गुरुपतवंत सिंह पन्नुन ने कहा, “चूंकि धार्मिक स्वतंत्रता कार्य अमेरिकी मूल्यों के केंद्र में हैं, इसलिए हमने कांग्रेस के सदस्यों को मोदी शासन के तहत सिखों के उत्पीड़न के खिलाफ खड़े होने के लिए कहा है।”

उन्होंने कहा, “भारत में सिखों को अपनी अलग धार्मिक पहचान और स्वनिर्धारित करने के उनके अतुलनीय अधिकारों को पुनर्स्थापित करने के लिए अभियान चलाया जाता है।”

Loading...