Friday, October 22, 2021

 

 

 

मिलियन डॉलर के सोना खनन उद्योग की बागडोर संभालेंगी सऊदी महिलायें

- Advertisement -
- Advertisement -

मादेन माइनिंग कंपनी ने मंगलवार को घोषणा की है की उन्होंने अल फैसलिया वोमन्स वेलफेयर सोसाइटी के साथ साझेदारी कर दी है जिसमे सऊदी महिलाओं को खनन कार्यो के लिए प्रशिक्षण दिया जायेगा.

यह कार्यक्रम मादेन की सामाजिक पहल में से एक था, जिसकी लागत SR20 मिलियन थी, अल-फैसलिया महिला कल्याण समिति सामाजिक, स्वास्थ्य, सांस्कृतिक और शैक्षणिक सेवाएं प्रदान करके स्थानीय समुदाय के विकास में योगदान करती है.

मादेन, ऊर्जा, उद्योग और खनिज संसाधन मंत्रालय के माध्यम से और सऊदी सरकार के सहयोग से, खनिज उद्योग के नेतृत्व में राज्य के तेल और पेट्रोकेमिकल्स के बाद उद्योग का थर्ड पिलर बनने के अपने दृष्टिकोण को हासिल करने की कोशिश कर रहा है.

मादेन की साझेदारी कंपनी साबिक, अलकोआ, मोजाइक कं, बैरिक गोल्ड कॉर्प और सहारा पेट्रोकेमिकल्स हैं.
मादेन ने मदीना सरकार द्वारा स्थापित एक सांस्कृतिक केंद्र की स्थापना की, महज एड-दहाब में 19 दिसंबर को जिसमे प्रिंस फैसल बिन सलमान मौजूद थे, जो अरब में सोना खनन क्षेत्र है, यह अल-मदीना प्रांत में स्थित है.

सऊदी अरब माइनिंग कंपनी याह्या अल-शांगटी में स्वर्ण क्षेत्र के उपाध्यक्ष ने कहा कि कंपनी कई अन्य क्षेत्रों में देश के लोगों के लिए अन्य पहलों को बढ़ावा देती है, उन्होंने अल-शान्गिती खनन क्षेत्र में महिलाओं के लिए उभरते परियोजनाओं की स्थापना और विपणन के बारे में बताया.

उन्होंने कहा “मादेन की भूमिका मुख्य रूप से महिलाओं के प्रशिक्षण कार्यक्रम के वित्तपोषण के हिस्से के अतिरिक्त सांस्कृतिक केंद्र बनाने और उन्हें सक्षम बनाने में थी, उन्होंने कहा “ऑपरेशन के लिए नामा अल-मुनवावरह चैरिटी के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए गए, वे अब मदीना में सुनार कौशल में प्रशिक्षित करने के लिए महिलाओं के गहने प्रशिक्षण कार्यक्रम पर काम कर रहे हैं, छोटे और मध्यम उद्यमों को सहायता प्रदान करने के लिए नमा अल-मुनवावर को एक गैर-लाभकारी संगठन के रूप में स्थापित किया गया था.

उन्होंने कहा खनन उद्योग को पुरुषों के लिए माना जाता है, लेकिन क्षेत्र में काम करने के लिए सऊदी महिलाओं की योग्यता को परखा जा रहा है.
अल-शांगीती ने कहा की “खनन में काम करना बहुत मुश्किल है, जहां हम भूमिगत काम करते हैं, वह 400 मीटर गहरी होती है और विश्व स्तर पर इस क्षेत्र में महिलाओं की संख्या सीमित है.”

उन्होंने कहा की “भविष्य में खनिक के तौर पर काम करने की बजाय महिलाओं को खनन में प्रशासनिक पदों पर कब्जा करना संभव है.”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles