सऊदी अरब की योजना है कि वह क्षेत्र में लेबनान को तकफ़ीरी सलफ़ी विचारधारा वाले गुटों के केन्द्र के तौर पर प्रयोग में लाए।
लेबनान में एक जानकार रक्षा सूत्र के अनुसार सऊदी सरकार के फ़ारस की ख़ाड़ी देशों के मामले के मंत्री सामिर सुबहान ने पिछले कुछ महीनों में लेबनान की कई बार यात्रा की है, और वहां के बहुत सी राजनीतिक, मीडिया, शख़्सियतों के साथ साथ वहां के सुन्नी नेताओं जैसे सालिम अलरेफ़ाई और ख़ालिद से मुलाक़ात और उनसे फोन पर बातचीत की है।

सबूत बताते हैं कि सुबहान लेबनान की अपनी यात्रा से परे एक विशेष परियोजना विशेष कर वहां के सलाफी के लिए चला रहे हैं, इस परियोजना का मक़सद सीरिया के बाद लेबनान में अराजकता और अशांति पैदा करना है, इसके लिए उन्होंने उत्तरीय लेबनान में सक्रिय आतंकवादी संगठनों के कमांडरों और नेताओं और इसी प्रकार  शिविरों में सक्रिय आतंकवादियों को बहुत पैसा दिया है।

सीरिया में शांति की कामयाब होती कोशिशों के बाद अटकलें यह लगाई जा रही हैं कि सऊदी अरब का लक्ष्य यह है कि वह अब क्षेत्र में लेबनान को तकफ़ीरी, सलफ़ी विचाधारा वाले गुटों का गढ़ बना दे।

सऊदी अरब के ख़ुफ़िया विभाग ख़ालिद हमीदान की निगरानी में यह परियोजना जारी है, और कुछ कार्यों के लिए तुर्की और फ़ारस की ख़ाड़ी के देशों और अमरीका केसाथ वार्ता की गई है। इस कार्य के लिए सीआईए के पूर्व निदेशक डेविड पेट्रोस भी ख़ालिद हमदीन के सलाहकार के तौर पर थिंक टैक में कार्य कर रहे हैं।

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?