श्रीलंका निवासी सरुना ने सऊदी अरब में एक घर में घरेलू काम करते हुए 28 साल पहले श्रीलंका छोड़ दिया था. वे 28 साल से उसी घर में काम कर रही थीं. जब उनके मालिक ने दूसरा घर लिया तो टाइल्स पर चलने की आदत न होने कारण सरुना फिसल कर गिर पड़ीं और उनके पाँव की हड्डी टूट गयी. ऐसे में आमतौर पर जहाँ मालिक अपने नौकर को घर वापस भेज देते हैं, अल-ज़कदी ने एक दूसरा ही काम किया.

सऊदी के रहने वाले अब्दुल-अज़ीज़-खलाफ-अल-ज़कदी का कहना है कि सरुना इस बात का जीता-जागता सबूत हैं कि घरों में काम करने वाले मशीन नहीं होते. वे जिस परिवार के लिए काम करते हैं, उसी का एक हिस्सा बन जाते हैं.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

अब्दुल अज़ीज़ ने बताया कि सरुना 1989 में सऊदी अरब आयीं थीं. तभी से वे उनके घर में काम करती हैं. उन्होंने एक पूरी पीढ़ी की सेवा की है. अज़ीज़ ने बताया कि हाल ही में जब वे अपने नए घर में रहने पहुंचे तो तो सरुना फिसल गयीं और पैर में चोट खा बैठीं. इस वजह से वे काम-काज करने में असमर्थ हो गयीं. इस पर अब्दुल के परिवार ने सरुना को काम से नहीं निकाला. इसकी बजाय उन्होंने सरुना की मदद की और उनका इलाज करवाया. इसके अलावा उन्होंने सरुना के ठीक होने तक उनकी देखभाल भी की.

उन्होंने सरुना को ऐसी स्थिति में भी उनकी तनख्वाह दी और उनके बच्चों से संपर्क में रहे और उन्हें सरुना के बारे में लगातार जानकारी देते रहे. अब्दुल आगे कहते हैं कि जब तक सरुना उनके साथ रहती हैं, तब तक उनकी देखभाल होती रहेगी.

अल-ज़कदी कहते हैं कि परिवार सरुना से बहुत प्यार करता है क्योंकि उन्होंने हमेशा सबकी देखभाल की है और बच्चों को प्यार किया है. सरुना इमानदार और वफादार कर्मचारी हैं. वे सभी घरेलू कामों को करने में सक्षम हैं और उनकी प्रबंधन क्षमता भी बहुत अच्छी है. वे अन्य चार कर्मचारियों को निर्देशित करती हैं और ड्राईवर के साथ सामान लेने खुद बाज़ार जाती हैं.

अब्दुल अज़ीज़ ने बताया कि उनका बड़ा परिवार है. उनके परिवार में वो खुद, उनकी पत्नी, 5 बच्चे और माँ शामिल हैं. उन्होंने बताया कि उनके भाई और उनके बच्चे अक्सर माँ से मिलने आते रहते हैं. और सरुना उन सभी का ख्याल रखती हैं.

सरुना ने बताया कि उनके मालिक और घर के सभी सदस्यों ने उनका ध्यान रखा और उनके साथ अच्छा व्यवहार ही किया है. सभी ने उनका अपने परिवार के सदस्य की तरह ख्याल रखा.

Loading...