सऊदी अरब के विदेश मंत्री प्रिंस फैसल बिन फरहान अल सऊद ने तुर्की के साथ सबंधों को लेकर बड़ा बयान दिया है। उन्होने कहा कि उनके देश के तुर्की के साथ “अच्छे और सौहार्दपूर्ण” संबंध रहे और तुर्की उत्पादों के अनौपचारिक बहिष्कार का कोई डेटा नहीं है।

उन्होंने शनिवार को जी 20 लीडर्स समिट के मौके पर कहा कि संयुक्त अरब अमीरात, मिस्र और बहरीन के साथ कतर के साथ विवाद को समाप्त करने के लिए एक रास्ता तलाश रहे। मंत्री ने यह भी कहा कि वह आश्वस्त थे कि डेमोक्रेट जो बिडेन की जीत के बाद अमेरिकी प्रशासन में क्षेत्रीय स्थिरता में मदद करने वाली नीतीय होगी और इसके साथ किसी भी विचार-विमर्श से मजबूत सहयोग मिलेगा।

प्रिंस फैसल बिन फरहान अल सऊद ने कहा, “मुझे विश्वास है कि एक बिडेन प्रशासन उन नीतियों को जारी रखेगा जो क्षेत्रीय स्थिरता के हित में हैं।” उन्होंने कहा, दोनों देशों के बीच 75 से अधिक वर्षों से अच्छे संबंध हैं। उन्होंने कहा: “भविष्य के प्रशासन के साथ हमारे जो भी विचार-विमर्श होंगे, उन्हें मजबूत सहयोग मिलेगा।”

प्रिंस फैसल ने कहा कि संयुक्त राज्य अमेरिका के लिए यमन में ईरान-गठबंधन हौथी आंदोलन को एक विदेशी आतंकवादी संगठन के रूप में नामित करना “पूरी तरह से उचित” होगा। बता दें कि हाल ही में सऊदी किंग शाह सलमान और तुर्की राष्ट्रपति रजब तैयब एर्दोगान के बीच हाल ही में फोन पर बातचीत हुई थी।

तुर्की राष्ट्रपति के कार्यालय ने एक बयान में कहा, दोनों नेताओं ने जी 20 शिखर सम्मेलन पर चर्चा की। उन्होने कहा, “राष्ट्रपति एर्दोगन और किंग सलमान द्विपक्षीय संबंधों को सुधारने और मुद्दों को दूर करने के लिए संवाद के चैनलों को खुले रखने के लिए सहमत हुए।”

Loading...
विज्ञापन
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano