नई दिल्ली | अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प का 7 मुस्लिम देशो के नागरिको पर अमेरिका में घुसने पर पाबन्दी लगाने के बाद ज्यादातर देशो ने इस फैसले की आलोचना की. यहाँ तक की अमेरिका के ही दो राज्यों ने इस फैसले के विरोध में अदालत का दरवाजा खटखटाया. जिसके बाद जिला जज ने डोनाल्ड ट्रम्प के फैसले पर अस्थायी रोक लगा दी.

अरब देशो में अमेरिका के सबसे करीब माने जाने वाले सऊदी अरब ने तो एक कदम आगे बढ़ते हुए मुस्लिम बहुल देश पाकिस्तान के काफी नागरिको को ही देश से बाहर निकाल दिया. मिली जानकारी के अनुसार पिछले 4 महीनो में सऊदी अरब ने करीब 39 हजार पाक नागरिको को देश से बाहर निकाला है. इन सभी पर सऊदी के अन्दर वीजा उलंघन करने का आरोप है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इसके अलावा शीर्ष सुरक्षा अधिकारियो को आदेश दिया गया है की किसी भी पाक नागरिक को देश में दाखिल करने से पहले उसकी गहन जांच की जाए. दरअसल सऊदी सरकार को शक है की पाकिस्तान से आने वाले कुछ नागरिक, कुख्यात आतंकी संगठन ISIS के पैरोकार हो सकते है. इसके अलावा पिछली कुछ आतंकी वारदातों में पाक नागरिको की संलिप्ता पाया जाना चिंता का विषय है.

सऊदी गजट ने सुरक्षा सूत्रों के हवाले से बताया की रियायस और कार्यो के नियमो के उलंघन की वजह से यह कार्यवाही की गयी. यही नही देश में बढ़ रही हिंसा, चोरी, जालसाजी, नशीले पदार्थो की तस्करी और कुछ अन्य अपराधो में पाक नागरिको की गिरफ्तारी भी हुई है. सऊदी अरब को अमेरिका का बेहद करीबी माना जाता है. कुछ लोग इस कार्यवाही को डोनाल्ड ट्रम्प की कार्यवाही से भी जोड़कर देख रहे है. क्योकि नवम्बर में ट्रम्प के आने के बाद इस कार्यवाही में और तेजी आई है.

Loading...