सऊदी अरब के राजकुमार मुहम्मद बिन सलमान ने दो पूर्व अमेरिकी अधिकारियों से कहा है कि वे दो साल चल रहे यमन युद्ध से निकलना चाहते हैं, और वह ईरान के साथ अमेरिकी संबंधों के खिलाफ भी नहीं है.

इस बात का खुलासा वाशिग्टन में संयुक्त अरब इमारात के राजदूत यूसुफ़ अलओतैबा के हैक किये गए ई-मेल्स से हुआ है. जिसकों Middle East Eye ने अपनी रिपोर्ट में पब्लिश किया है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

सऊदी अरब के रक्षामंत्री ने इस्राईल में अमरीका के पूर्व राजदूत और अमरीका के पूर्व राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार के साथ बातचीत के दौरान यमन युद्ध से बाहर निकलने की बात कही थी.

ये बातचीत सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात, बहरीन और मिस्र द्वारा कतर के साथ कूटनीतिक और आर्थिक संबंधों को तोड़ने से कम से कम एक महीने पहले हुई, जिसमें क़तर पर यमन में युद्ध को कमजोर करने और ईरान के साथ मैत्रीपूर्ण संबंध बनाने की कोशिश करने का आरोप लगाया गया.

उल्लेखनीय है कि सऊदी अरब ने 26 मार्च 2015 से यमन पर बम्बारी शुरू कर रखी है जो अभी भी जारी है. इस बमबारी में हज़ारों लोग मारे जा चुके हैं.

Loading...