qtr
qtr
सऊदी अरब, संयुक्त अरब इमारात, मिस्र और बहरैन ने एक बार फिर क़तर पर आतंकवाद के समर्थन का आरोप लगाया है।

इन देशों ने दो संस्थाओं और 11 लोगों का नाम आतंकियों और प्रतिबंधित लोगों व संस्थाओं की सूची में जोड़ते हुए दावा किया है कि ये दो धार्मिक संस्थाएं इस्लामी संवाद से ग़लत लाभ उठा कर उसे आतंकवाद के प्रचार के लिए इस्तेमाल कर रही हैं।

इन तीन देशों का दावा है कि जिन लोगों पर प्रतिबंध लगाया गया है उन्होंने क़तर से सीधी आर्थिक सहायताएं प्राप्त करके विभिन्न आतंकी कार्यवाहियां की हैं।

सऊदी अरब और उसके घटकों ने इसी तरह क़तर के अधिकारियों पर आतकियों का समर्थन करने, उन्हें शरण देने, उनकी आर्थिक मदद करने और चरमपंथ व नफ़रत फैलाने के लिए प्रोत्साहित करने का भी आरोप लगाया है।

सऊदी अरब, संयुक्त अरब इमारात, मिस्र और बहरैन ने पांच जून से क़तर के साथ अपने कूटनैतिक संबंध तोड़ लिए हैं। उनका आरोप है कि दोहा आतंकवाद का समर्थन करता है और सऊदी अरब के नेतृत्व में अरब आंदोलन का साथ नहीं देता।

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें