भारत के निजामाबाद के एक हिन्दू युवक को जिसे सऊदी अरब में क़त्ल के जुर्म में मौत की सज़ा सुनाई गई थी. उसे स्थानीय शेख ने 1.3 मिलियन सउदी रियाल यानि 1.80 करोड़ रु की ब्लड मनी जुर्माने के रूप में जमा कर उसे आजाद कराया हैं.

दरअसल निजामाबाद से सांसद कश्मीर कविता ने इस मुद्दे को विदेशमंत्री सुषमा स्वराज के समक्ष उठाया था. जिसके बाद उन्होंने सऊदी अरब के स्थानीय बिसनेसमैन अवाद बिन गुरया अलसमी से बात की. अलसमी नेओने  पिछले आठ सालो से जेल में फंसी का इंतजार कर रहे लिम्बादरी को बचाने के लिए 1.3 मिलियन सउदी रियाल यानि 1.80 करोड़ रु भुगतान किया.

तेलंगाना की राज्य महासचिव नवीन अचारी ने निजामाबाद में लिम्बादरी के परिवार से घर जाकर मुलाक़ात की और उन्हें बताया कि लिम्बादरी 15-20 दिनों में वापस घर आ जाएगा.

लिम्बादरी को 9 साल पहले गिरफ्तार किया गया था. जब देश भर में हिंसा फैली हुई थी. इस दौरान सऊदी सुरक्षा बालो द्वारा हिरासत में लिए गया था जिसके बाद सऊदी अदालत ने दोषी पाए जाने पर उसको फांसी की सजा सुनाई थी.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें