सऊदी अरब ने पाकिस्तान को तेल की आपूर्ति को निलंबित कर दिया है। दरअसल पाकिस्तान ने सऊदी अरब के कश्मीर मुद्दे पर इस्लामिक देशों के संगठन (OIC) की बैठक में पीछे हटने पर शिकायत की थी।

2018 में, पाकिस्तान ने सऊदी अरब से 6.2 बिलियन डॉलर का ऋण लिया, जिसमें एक प्रावधान भी शामिल था, जिसके तहत रियाद ने इस्लामाबाद को 3.2 अरब डॉलर का तेल प्रति वर्ष उधार पर देने की घोषणा की थी।

शनिवार को, पाकिस्तानी मीडिया ने बताया कि प्रावधान दो महीने पहले समाप्त हो गया था और सऊदी अरब ने इसे नवीनीकृत नहीं किया। रिपोर्टों में कहा गया है, इस्लामाबाद ने समय से चार महीने पहले $ 1 बिलियन सऊदी ऋण लौटा दिया।

उल्लेखनीय है कि शनिवार को विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी द्वारा धमकी दिए जाने के बाद सऊदी ने ये कदम उठाया, उन्होने कहा था कि अगर सऊदी अरब के नेतृत्व वाले ओआईसी ने कश्मीर पर विदेश मंत्रियों की बैठक नहीं बुलाई, तो प्रधानमंत्री इमरान खान इसे अपने सहयोगियों के साथ इस्लामिक देशों के बीच आयोजित करेंगे।

कुरैशी ने बुधवार देर रात स्थानीय टेलीविजन स्टेशन एआरवाई न्यूज को बताया, “एक साल से हम ओआईसी से अनुरोध कर रहे हैं कि वह फिलिस्तीन और कश्मीर के मुद्दों पर विदेश मंत्रियों की बैठक बुलाए, जहां मुस्लिम अत्याचार का सामना कर रहे हैं, जबकि भारत ने 300 साल पुरानी बाबरी मस्जिद को ध्वस्त कर दिया है और राम मंदिर का निर्माण कर रहा है, लेकिन ओआईसी चुप है । पर क्यों?”

OIC, जो कि सऊदी शहर जेद्दा में स्थित है, संयुक्त राष्ट्र के बाद 57 राज्यों की सदस्यता के साथ दूसरा सबसे बड़ा अंतर-सरकारी संगठन है।

Loading...
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano
विज्ञापन