म्यांमार में रोहिंग्या मुसलमानों पर हो रहे जुल्मों के बीच पहली बार सत्तारूढ़ पार्टी की प्रमुख आंग सान सू ची ने रोहिंग्या मुसलमानों के साथ हो रहे अत्याचार को जातीय सफ़ाए की श्रेणी में रखे जाने पर आपति जताई हैं.

उन्होंने कहा, मुझे नहीं लगता कि जातीय सफ़ाए जैसी कोई चीज़ हो रही है. उन्होंने दावा किया कि उस क्षेत्र (राख़ीन) में बहुत ज़्यादा दुश्मनी है, यहां तक कि मुसलमान भी मुसलमानों की हत्या कर रहे हैं और मामला केवल जातीय सफ़ाए का नहीं है बल्कि यह लोगों के आपसी मतभेदों से संबंधित है और हम कोशिश कर रहे हैं कि इन विवादों और फ़ासलों को दूर कर दें.

याद रहे दुनिया के सबसे पीड़ित अल्पसंख्यक रोहिंग्या मुस्लिम समुदाय पर म्यांमार सेना के जुल्म की दास्तान दुनिया के सामने आ चुकी हैं. मानवाधिकार संगठनों और सयुंक्त राष्ट्र संघ की रिपोर्ट में पहले ही खुलासा हो चूका हैं कि ‘Area clearance operations’ के नाम पर सैकड़ों की संख्या में रोहिंग्या मुस्लिम की हत्याएं हुई हैं.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

संयुक्त राष्ट्र के जांचकर्ताओं की रिपोर्ट से खुलासा हुआ हैं कि रोहिंग्या मुस्लिम समुदाय की महिलाओं के साथ बड़े पैमाने पर बलात्कार हुआ. सुरक्षा बलों ने गांवों को आग के हवालें कर दिया, उसके बाद बड़े पैमाने पर हत्याए की गई, बलात्कार किये गये और उनके खाद्यान सामग्री को भी जला दिया गया.

Loading...