aqsatomb

इस्लाम धर्म के तीसरे पवित्र स्थान को कब्जाने के लिए इजराइल हमेशा से विभिन्न हथकंडे अजमाता आया हैं. इस बार इजराइल ने रिपब्लिकन सांसदों के जरिए नया दांव खेला हैं, जिसके तहत रिपब्लिकन सिनेटर टेड क्रूज़ सहित दो सांसदों ने बैतुल मुक़द्दस को इस्राईल की राजधानी घोषित करने के लिए सिनेट में प्रस्ताव पेश करने का फैसला किया हैं.

रिपब्लिकन सांसदों की मांग हैं कि इस्राईल की राजधानी को तेल अबीब से बैतुल मुक़द्दस बदल कर अमेरिकी दूतावास को वहां पर स्थानांतरित किया जाए. रिपब्लिकन सांसदों ने इसके लिए 1995 में बने एक कानून का सहारा लिया हैं. जिसमें अमरीकी राष्ट्रपतियों ने वादा किया था कि वह यह काम करेंगे लेकिन अब तक एसा नहीं हो सका है और हर बार इसे छह महीने के लिए टालि दिया जाता है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

मार्को रूबियो, डान हेलर और टेड क्रूज़ ने कहा कि इस क़ानून का उद्देश्य बैतुल मुक़द्दस को इस्राईल की राजधानी के रूप में मान्यता देना है. लेकिन इसी के साथ अमरीका के राष्ट्रपति को यह भी अधिकार मिला था कि वह सुरक्षा पहलुओं को ध्यान में रखते हुए अमरीकी दूतावास के बैतुल मुक़द्दस स्थानान्तरण को छह महीने तक टाल सकते थे. इसी के आधार पर हर बार इसे छह महीने के लिए टालि दिया जाता है.

हाल ही में अमरीका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने चुनावी अभियान के दौरान ज़ायोनी शासन के प्रधानमंत्री बिनयामिन नेतनयाहू से न्यूयार्क में मुलाक़ात की थी जिसके बाद ट्रंप के चुनावी आयोग ने एक बयान में कहा था कि ट्रंप के नेतृत्व में अमरीका कांग्रेस के पुराने के क़ानून पर अमल करेगा

Loading...