अल मॉनिटर के अनुसार, रियाद ने अनाधिकारिक रूप से तेहरान को एक संदेश भेजा है कि वोह सऊदी ग्रैंड मुफ्ती पर ईरान द्वारा अपमानजनक टिप्पणी पर स्पष्टीकरण दे.

हज तो सिर्फ  दोनों देशों के बीच कई अन्य असहमति के से एक है। रियाद और तेहरान परोक्ष रूप से सीरिया, यमन और बहरीन में टकराव में शामिल किया गया है

न तो सऊदी और न ही ईरानी विशेषज्ञों का दो सरकारों के बीच व्यवहार में वास्तविक परिवर्तन के बारे में बहुत आशावादी हैं। ईरान का मानना है कि सऊदी अरब में तनाव जारी रखने से सऊदी अस्थिरता की ओर जाता है और अल-सउद की सत्ता अंत में गिर जाएगी।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इन दिनों कठोर बयानबाजी के बावजूद, तेहरान और रियाद के बीच मौजूदा प्रक्रिया में बदलाव की उम्मीद  जल्दी ही हो सकता है।यह बताया गया है कि दोनों संकट कोकम करने के साथ ही दोनों देशों के बीच समझ पैदा करने के लिए आदान-प्रदान किया गया है।

Loading...