सऊदी अरब सहित मिस्र, सयुंक्त अरब अमीरात, बहरीन द्वारा क़तर से ईरान से रिश्तें रखने को लेकर सबंध समाप्त कर लिए गए. बावजूद इसके क़तर से ईरान के साथ न केवल अपने रिश्तों को जारी रखा बल्कि उन्हें और मजबूती भी प्रदान कर रहा है.

हाल ही में क़तर से फिर से अपने राजदूत को तेहरान भेजा है. शनिवार 26 अगस्त से क़तर के राजदूत “अली बिन अहमद अलीअस्सलीती” ने क़तर के दूतावास में आधिकारिक रूप में कार्यभार संभाल लिया है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

क़तर के विदेश मंत्रालय ने बयान जारी करके घोषणा की थी कि 18 महीनों के अंतराल के बाद क़तर के राजदूत को वापस ईरान भेजा जा रहा है. इसके लिए दोनों देशों के विदेशमंत्रियों ने टेलिफोनी वार्ता भी की थी.

ईरान के विदेशमंत्रालय के प्रवक्ता बहराम क़ासेमी ने क़तर के राजदूत की ईरान वापसी का स्वागत करते हुए कहा, इस्लामी गणतंत्र ईरान, परस्पर संबन्धों को विस्तृत और प्रगाढ़ करने के पड़ोसी देशों के सकारात्मक प्रयासों का स्वागत करता है.

गौरतलब रहें कि सऊदी अरब और उसके समर्थक देशों ने क़तर को दुबारा से सम्बन्ध बहाली के लिए ईरान से अपने रिश्ते ख़त्म करने को कहा था. जिसे क़तर ने नजरअंदाज कर दिया है.

Loading...