सीरिया के अलेप्पो प्रान्त में जो हो रहा हैं वो सभी के सामने हैं, सोशल मीडिया के माध्यम आज हर व्यक्ति अलेप्पो या हलब के हालात से उजागर हैं. विद्रोहियों और सेनाओ के बीच लड़ाई में आम नागरिको की मौत हो रही हैं. हालाँकि पिछले कई सालो से चल रहे इस क़त्ल ए-आम पर लगाम लग चुकी हैं, लेकिन इस क़त्ल-ओ-गारत को रोकने के लिए दुनिया भर से आवाज़ उठायी गयी.

पूर्वी अलेप्पो में हुई तेज़ बमबारी के बीच सैकड़ो लोगो की जाने गयी लेकिन मानव ज़िन्दगी की किसी को कोई अहमियत नहीं. मानवाधिकारों का घोर उलनघन होता रहा, और विश्व की बड़ी ताकते बस तमाशा देखती रही. इसी क़त्ल-ए-आम को रोकने के लिए दुनिया भर के आम नागरिको ने विरोध प्रदर्शन किया.

16 दिसम्बर शुक्रवार यानि आज के दिन अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर में लोगो ने अलेप्पो के लोगो के साथ एकजुटता प्रदर्शित करते हुए वह हो रहे क़त्ल-ए-आम को रोकने की मांग की.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

वही 15 दिसम्बर को पाकिस्तान के लाहौर शहर में भी एक विरोध प्रदर्शन किया गया, लोगो की जान की हिफाज़त करने की मांग की गयी और मानव अधिकारों के हनन को रोकने की भी मांग की गयी. इसके अतरिक्त पाकिस्तान के दुसरे शहर कराची और पेशावर में भी आज ऐसे ही विरोध प्रदर्शन होने की उम्मीद हैं.

नेदरलैंड में मोमबत्ती जलाकर अलेप्पो के लोगो के साथ दिखाई हमदर्दी.

टर्की की राजधानी इंस्तांबुल में ईरानी दूतवास के बाहर लोगो का पुरज़ोर प्रदर्शन

पेरिस सहित यूरोप के कई देशो और शहरो में भी अलेप्पो के साथ प्रदर्शित की गयी हमदर्दी. पेरिस में एफिल टॉवर को भी ब्लैक कर दिया गया.

लन्दन में विरोध प्रदर्शन की तस्वीरे

बीते कई दिनों में लगभग दुनिया के हर देश में सीरियन लोगो के प्रति एकजुटता प्रदर्शित करते हुए मानवाधिकारों के हनन को रोकने के मांग की और विरोध प्रदर्शन दर्ज किया गया.

Web-Title: protest worldwide with solidarity with syrians

Key-Words: Syria, Worldwide, protest, Aleppo, civilians

Loading...