वाशिंगटन। वैसे तो नमाज अल्लाह की और से मोमिन के लिए इनाम हैं लेकिन आज दुनियावी मसरूफियत और आलस के कारण हम अल्लाह की और से मिले इस इनाम से महरूम रह जाते हैं. नमाज की अहमियत को आज साइंस भी कबूल कर रही हैं.

हाल ही में एक शोध में खुलासा हुआ हैं कि पाबंदी के साथ नमाज अदा करने से पीठ दर्द हमेशा के लिए चला जाता हैं. पेपर्स इंटरनेशनल जर्नल ऑफ इंडस्ट्रियल एंड सिस्टम इंजीनियरिंग में प्रकाशित हुए इस शोध में कहा गया कि नमाज के दौरान जो शारीरिक क्रियाएं होती है, वे जोड़ों के दर्द के लिए फायदेमंद होती है.

शोध में खुलासा हुआ कि प्रतिदिन ऐसा करने से हृदय रोग के साथ ही मोटापे का खतरा भी नहीं रहता. शोध के प्रमुख मोहम्मद खसवनेह ने कहा कि नमाज के दौरान की जाने वाली कुछ क्रियाएं योग व शारीरिक अभ्यास कमर दर्द में हितकारी होती है.

उन्होंने आगे बताया, नमाज से शारीरिक तनाव और चिंता से मुक्ति मिल जाती हैं. उन्होंने कहा, इस प्रकार  नमाज को न्यूरो-मस्कुल्कोकेलेटल रोग के प्रभावी नैदानिक उपचार माना जा सकता है. नमाज शारीरिक और स्वस्थ जीवन शैली को बनाए रखने में भी सहायक होती हैं.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?