Monday, October 18, 2021

 

 

 

रोहिंग्याओं की आपबीती सुन पोप फ्रांसिस भी नहीं रोक पाए अपने आंसू

- Advertisement -
- Advertisement -

Pope Invited To Visit Romes Mosque

रोहिंग्या संकट के बीच म्यांमार की यात्रा कर बांग्लादेश पहुंचे ईसाई धर्म के सबसे बड़े धर्म गुरु पोप फ्रांसिस ने अपनी म्यांमार की यात्रा के दौरान रोहिंग्या शब्द का इस्तेमाल करना मुनासिब नहीं समझा लेकिन बांग्लादेश पहुंच कर रोहिंग्याओं से मुलाक़ात के बाद वे उनके साथ हुई ज्यादतियों के चलते खुल कर बोले.

पोप फ्रांसिस ने बताया कि मैं जानता था कि मैं रोहिंग्या लोगों से मुलाकात करुंगा लेकिन यह नहीं पता था कि कहां और कैसे. मेरे लिए यह यात्रा की एक शर्त थी. उन्होंने बताया, वह बांग्लादेश में रोहिंग्या शरणार्थियों की बदहाली की व्यथा को सुनकर रो पड़े.

बांग्लादेश में शरणार्थी शिविर में रोहिंग्या लोगों से मुलाक़ात पर उन्होंने कहा, ‘‘बांग्लादेश ने उन लोगों के लिए काफी कुछ किया है, यह स्वागत करने का एक उदाहरण है.’’

पोप ने कहा, ‘‘मैं रोया, मैंने अपने आंसू छिपाने की कोशिश की. मैंने अपने आप को कहा कि मैं उनसे बिना एक भी शब्द कहे जा नहीं सकता.’’

पोप ने रोहिंग्या ने कहा, ‘‘जिन लोगों ने आपको सताया, आपको नुकसान पहुंचाया और दुनिया की उदासीनता को लेकर मैं आपसे उन्हें माफ करने के लिए कहता हूं.’’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles