राष्ट्रपति रसेप तय्यिप एर्दोगान ने कहा है कि पीकेके एक आतंकवादी समूह है जो कुर्दों का प्रतिनिधित्व करने का दावा करता है बल्कि वह स्वयं कुर्दिश लोगों को मार रहा है.

धार्मिक मामलों के निदेशालय द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में एर्दोगान ने कहा: “वे कहते हैं: ‘हम कुर्द लोगों के प्रतिनिधि हैं’ वे झूठे है. उन्होंने लोगों को बहकाया. 7 जून [2015] चुनावों में थोड़ी सी सफलता हासिल कर लेते हैं और जो 53 लोगों को मारे जाने का कारण बनता है.

उन्होंने सवाल उठाते हुए कहा कि कौन मारे गए? मारे जाने वाले कुर्द नागरिक थे. हत्यारे का क्या? वे भी कुर्द थे. क्या आप कुर्द लोगों के प्रतिनिधि नहीं थे? राष्ट्रपति ने यह भी कहा कि “अलगाववादी” आतंकवादी समूह ने “हमारे सपनों को चुराया.

उन्होंने कहा कि पीकेके मुख्य रूप से अपने हमलों में स्कूलों, छात्रावासों और शिक्षकों को निशाना बना रहा था. उन्होंने कहा कि आतंक समूह शिक्षा और धर्म के साथ बच्चों के संबंधों को तोड़ने के लिए उन्हें अपनी विचारधारा के दास बनने के लिए मुहैया करा रहा है.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?