नॉर्वे ने 29 लोगों की मौत के बाद फाइजर के कोरोना टीके को लेकर चिंता जताते हुए इस टीके को बुजुर्गों के लिए खतरनाक करार दिया।

नॉर्वे मेडिसिन एजेंसी ने शनिवार को ब्लूमबर्ग को एक लिखित जवाब में कहा, शुक्रवार तक सिर्फ फाइजर और बायोएनटेक एसई द्वारा उत्पादित वैक्सीन ही नॉर्वे में उपलब्ध था, और “सभी मौतें इस वैक्सीन से जुड़ी हैं।”

एजेंसी ने कहा, “13 मौतों का आकलन किया गया है, और हम 16 अन्य मौतों के बारे में जानते हैं, जिनका वर्तमान में आकलन किया जा रहा है।” नए आकडे मरने वालों की संख्या में वृद्धि करते है। बयान में कहा गया कि ये टीका सबसे ज्यादा 75 से 80 वर्ष की आयु के लोगों को प्रभावित करता है।

अमेरिकी अधिकारियों ने भी फाइजर के लगभग 1.9 मिलियन प्रारंभिक खुराक के गंभीर एलर्जी प्रतिक्रियाओं के 21 मामलों की सूचना दी है। Pfizer-BioNTech वैक्सीन पर पहली यूरोप-व्यापी सुरक्षा रिपोर्ट जनवरी के अंत में प्रकाशित होने वाली है।

पिछले हफ्ते ही एक ब्रिटिश नर्स टीका लगने के तीन सप्ताह बाद COVID -19 से संक्रमित पाई गई थी, जिस पर विशेषज्ञों ने चेतावनी जारी कर कहा कि प्रतिरक्षा के निर्माण में समय लगेगा।

पश्चिम वेल्स में Hywel Dda University Health Board क्षेत्र के लिए काम कर रही नर्स ने कहा कि वह Pfizer-BioNtech जैब की दूसरी खुराक लेने के इंतजार के बीच कोरोना से संक्रमित हुई है।

उन्होंने कहा, “इससे मुझे मानसिक शांति मिली। इसने मुझे सुरक्षित महसूस कराया और यह कि मैं अपने परिवार के लिए सही काम कर रही थी … लेकिन यह सुरक्षा का एक गलत अर्थ देता है।”