Monday, June 14, 2021

 

 

 

बोस्निया के ऐतिहासिक मोस्टर ब्रिज पर फिलिस्तीनी झंडा फहराया गया, बुर्ज खलीफा पर नहीं दिखा

- Advertisement -
- Advertisement -

बोस्निया के सबसे महत्वपूर्ण प्रतीकों में से एक मोस्टर ब्रिज पर बुधवार को फिलिस्तीनी ध्वज प्रदर्शित किया गया। ऐसा इस्राइल के हमलों के बीच फिलिस्तीन के साथ एकजुटता प्रदर्शित करने के लिए किया गया।

1566 में विश्व प्रसिद्ध वास्तुकार मीमर सिनान के छात्र, आर्किटेक्ट हेयर्डिन द्वारा निर्मित, पुल न केवल शहर को अपना नाम देता है, बल्कि एक प्रतीक के रूप में भी काम करता है जो सभ्यताओं और संस्कृतियों को एकजुट करता है।

पिछले सप्ताह से पूर्वी यरुशलम के शेख जर्राह इलाके में तनाव बढ़ रहा है, जब एक इजरायली अदालत ने फिलिस्तीनी परिवारों को बाहर निकालने का आदेश दिया। जिसका फिलिस्तीनीयों ने विरोध किया और इजरायली बलों ने उन्हे निशाना बनाया।

इज़राइली बलों ने रमजान के महीने की विशेष रात शबे कद्र की प्रार्थना के दौरान पिछले शुक्रवार को अल-अक्सा मस्जिद पर हमला किया। जिसमे कई लोग घायल हुए। इस दौरान मस्जिद में ग्रेनेड फेंके गए। जिसे मस्जिद में लगे पेड़ों में भी आग लग गई।

1967 के अरब-इजरायल युद्ध के दौरान इजरायल ने पूर्वी यरुशलम पर कब्जा कर लिया और 1980 में पूरे शहर को एक ऐसे कदम से निकाल दिया, जिसे अंतरराष्ट्रीय समुदाय द्वारा कभी मान्यता नहीं दी गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles