Saturday, November 27, 2021

इजरायल यरूशलेम से फिलिस्तीनियों को निकाल रहा बाहर: ह्यूमन राइट्स वॉच

- Advertisement -

ह्यूमन राइट्स वॉच (एचआरडब्ल्यू) ने मंगलवार को कहा है कि इस्राइल यरूशलेम के फिलिस्तीनी निवासियों को अपने घरों को व्यवस्थित हस्तांतरण की नीति के माध्यम से छोड़ने के लिए प्रेरित कर रहा है।

न्यूयॉर्क स्थित एनजीओ ने एक नई रिपोर्ट में कहा कि शहर में फिलीस्तीनियों द्वारा निर्माण पर प्रतिबंध लगाकर फिलीस्तीनियों की निवासियों की निरंतर निरस्तीकरण किया जा रहा है. साथ ही अवैध रूप से निर्मित यहूदी बस्तियों की संख्या में वृद्धि से इस्राइल का पूर्व यरूशलेम में कब्जा हो रहा है.

रिपोर्ट में कहा गया है कि इसराइल कब्जा कर लिया फिलीस्तीनी आबादी के विकास को सीमित कर रहा है. साथ ही कहा गया कि यह वास्तविकता पूर्वी इजरायल में कब्जे वाले शहर-निर्मित यहूदी आबादी में इस्राइल सरकार के एक ठोस यहूदी बहुमत को बनाए रखने का लक्ष्य दर्शाती है.

रिपोर्ट में कहा गया है कि, इजरायल के आंतरिक मंत्रालय द्वारा दिए गए आंकड़ों के आधार पर, “1967 में ईस्ट जेरुसलेम के इजरायल के कब्जे की शुरुआत से 2016 के अंत तक, इसराइल ने पूर्व यरूशलेम से कम से कम 14,595 फिलीस्तीनियों का दर्जा रद्द कर दिया”

रिपोर्ट में एचआरडब्ल्यू के मध्य पूर्व के सारा लेह व्हिट्सन ने कहा है कि “इजराइल यरूशलेम को एक एकीकृत शहर के रूप में मानने का दावा करता है, लेकिन वास्तविकता ये है कि यहूदियों के लिए एक अलग नियम है और फिलीस्तीनियों के लिए दूसरा नियम.”

वह आगे कहती है, “यरूशलेम में फिलीस्तीनियों के खिलाफ भेदभाव से जुड़े मामलो में निवास की नीतियां शामिल हैं, जो कानूनी स्थिति को प्रभावित कर शहर के निवासियों में अलगाव पैदा करती हैं.

व्हाट्सन के अनुसार, यरूशलेम में यहूदी जनसांख्यिकीय बहुमत सुनिश्चित करने के लिए इजरायल के अधिकारियों के प्रयासों से शहर के फिलिस्तीनी निवासियों को अक्सर अपने घरों में विदेशियों की तरह रहना पड़ता है.

उन्होंने कहा, “फिलिस्तीनियों की स्थिति केवल तब तक सुरक्षित बनी हुई है जब तक कि वे विदेशों में अध्ययन करने या काम करने, गलती से पड़ोस में पहुंचने, या दूसरे देश में स्थिति प्राप्त करने की कोशिश नहीं करते हैं.

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles