mahm

mahm

अमेरिकी दूतावास को तेलअवीव से जेरुसलम शिफ्ट करने के फैसले को वापस न लेने के अमेरिका के कदम की आलोचना करते हुए फिलिस्तीन के प्रधानमंत्री महमूद अब्बास ने कहा है कि अमेरिका जेरुसलम में  शांति चाहता है या जंग.

बुधवार को मिस्र की राजधानी क़ाहेरा में बैतुल मुकद्दस के बारे में अलअज़हर अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन में अब्बास ने कहा है कि पवित्र शहर बैतुल मुक़द्दस शांति या जंग का द्वार बन सकता है और अब यह अमरीका पर है कि वह कौन सा रास्ता चुनना चाहता है.

उन्होंने कहा कि वॉशिंग्टन, फ़िलिस्तीनियों-इजरालियों के बीच दशकों से चले आ रहे विवाद को हल करने के लिए लंबे समय से रुकी हुयी बाताचीत में मध्यस्थ का रोल निभाने के लायक़ नहीं रह गया है. उन्होंने कहा कि अमरीका ने बैतुल मुक़द्दस को, जो अतिग्रहित क्षेत्र समझा जाता है, इजराइल की राजधानी घोषित करके अंतर्राष्ट्रीय क़ानून और संयुक्त राष्ट्र संघ के प्रस्तावों का उल्लंघन किया है.

फिलिस्तीनी प्रधानमंत्री ने कहा, फ़िलिस्तीनी अंतर्राष्ट्रीय अपराध न्यायालय में मुक़द्दमा दायर करेंगे और अपनी मांग को व्यवहारिक बनाने के लिए शांतिपूर्ण ढंग से कोशिश जारी रखेंगे, यहां तक हम अपना अधिकार हासिल करने में सफल हो जाएं.

उन्होंने उल्लेख किया कि 1977 से संयुक्त राष्ट्र महासभा और संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में फ़िलिस्तीन के विषय पर क्रमशः 750 और 86 प्रस्ताव पारित हो चुके हैं जिनमें से किसी एक को भी पूरी तरह लागू नहीं किया गया.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?