Monday, June 14, 2021

 

 

 

भारत के इजरायल के खिलाफ वोट नहीं करने पर फिलिस्तीन ने जताई कड़ी नाराजगी

- Advertisement -
- Advertisement -

हाल ही में गाजा में इस्राइल की और से 14 दिन तक फिलिस्तीनों मासूमों पर किए हमलों को लेकर यूनाइटेड नेशंस में इजरायल के खिलाफ जांच के प्रस्ताव पर भारत की और वोट न डालने और वोटिंग के दौरान गैर-हाजिर रहने को लेकर फिलिस्तीन ने कड़ी नाराजगी जाहीर की है।

फिलिस्तीन के विदेश मंत्री डॉ. रियाद अल मलिकी ने भारतीय विदेश मंत्री एस. जयशंकर को पत्र लिखकर कहा है कि ‘रिपब्लिक ऑफ भारत ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में इजरायल के खिलाफ जांच पर लाए गये निर्णायक और महत्वपूर्ण वोटिंग प्रस्ताव के दौरान फ्लोर गैर हाजिर रहकर एक महत्वपूर्ण मौके को खो दिया है। संयुक्त राष्ट्र के द्वारा इजरायल को जिम्मेदार और उसके खिलाफ न्यायपूर्ण जांच होनी थी, लेकिन भारत बैठक के दौरान अनुपस्थित रहा’।

फिलिस्तीन के विदेश मंत्री ने आगे लिखा कि ‘वोटिंग में गैर-हाजिर मानवाधिकर के खिलाफ उठती आवाज को दबाने में नाकामयाब रहा है।’ 30 मई को लिखे पत्र में मलिकी ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र में पारित हुआ प्रस्ताव एकपक्षीय नहीं था बल्कि बहुपक्षीय परामर्श के बाद पारित हुआ।

मलिकी ने भारतीय विदेश मंत्री एस. जयशंकर से कहा, “इसलिए, आपका अनुपस्थित रहना मानवाधिकार परिषद के महत्वपूर्ण कार्य को रोकने जैसा था। संयुक्त राष्ट्र के परिषद का काम सभी के मानवाधिकारों की रक्षा करना है जिनमें फिलिस्तीनी भी शामिल हैं।”

बता दें कि भारत उन 14 देशों में शामिल रहा, जो इजरायल के खिलाफ वोटिंग में गैर-हाजिर रहे. हालांकि, भारत ने वोटिंग में अपनी गैर-हाजिरी को लेकर कोई बयान नहीं दिया।

भारत के साथ मतदान से दूर रहने वाले देशों में फ्रांस, इटली, जापान, नेपाल, नीदरलैंड, पोलैंड और दक्षिण कोरिया शामिल थे। जबकि इसके पक्ष में मतदान करने वालों में चीन, पाकिस्तान, बांग्लादेश और रूस शामिल थे। जर्मनी, ब्रिटेन और ऑस्ट्रिया ने प्रस्ताव के खिलाफ मतदान किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles