सऊदी अरब के नेतृत्व में 39 देशों के इस्लामी सैन्य गठबंधन की कमान पाकिस्तान के पूर्व आर्मी चीफ जनरल रहील शरीफ को सौंपे जाने पर ईरान ने अपनी चिंता जाहिर की हैं. ईरान ने अपनी चिंता जाहिर करते हुए कहा है कि वह गठबंधन से ‘संतुष्ट’ नहीं है.

पाकिस्तान में ईरान के राजदूत मेहंदी हुनरदोस्त ने कहा कि पाकिस्तान ने रहील शरीफ को गठबंधन सेना का नेतृत्व करने के लिए अनापत्ति प्रमाण पत्र (नो अब्जेक्शन सर्टिफिकेट) जारी करने से पहले ईरान के अधिकारियों से संपर्क किया था. उन्होंने कहा, ‘लेकिन इसका यह मतलब नहीं है कि ईरान इस फैसले से संतुष्ट है या इसे स्वीकार कर लिया है.’

उन्होंने बताया कि तेहरान ने इस्लामाबाद को सूचित कर दिया है कि ईरान ऐसे किसी सैन्य गठबंधन का हिस्सा नहीं बनेगा. हुनरदोस्त ने कहा कि ईरान ने इस तरह के गठबंधन का हिस्सा बनने की इच्छा नहीं जताई है. मेहंदी हुनरदोस्त ने सुझाव दिया है कि सभी मुस्लिम देश इस तरह के विवादित सैन्य गठबंधन बनाने के बजाय अपने विवाद को सुलझाने के लिए एक साथ मिलकर ‘शांति गठबंधन’ बनाना चाहिए.

वहीँ पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ़ ग़फ़ूर का कहना है कि जनरल राहिल शरीफ़ की सऊदी गठबंधन में प्रमुख के रूप में नियुक्ति सरकार का फ़ैसला है. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान क्षेत्र में तनाव नहीं चाहता और किसी प्राक्सी वार पर विश्वास नहीं रखता.

ग़फ़ूर ने कहा, पाकिस्तान, सऊदी अरब और ईरान के सथ भी अच्छे संबंध चाहता है जबकि सऊदी गठबंधन में राहिल शरीफ़ की प्रमुख के रूप में नियुक्ति सरकार का फ़ैसला है.

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें