इस्लामाबाद: पिछले साल मक्का में उमराह के दौरान समय से पहले जन्मे एक बच्चे को शुक्रवार शाम को क्वेटा, पाकिस्तान में उसके माता-पिता के पास वापस भेज दिया गया। मक्का में रहने के दौरान बच्चे को पूरा इलाज उपलब्ध कराया गया।

बीबी हाजरा और उनके पति गुलाम हैदर मक्का में ही छोडने को मजबूर हो गए थे। पिछले साल 9 जनवरी को उनके बेटे का जन्म हुआ था। समय से पहले जन्म होने से बच्चे का वजन केवल 1 किलो था और वह गंभीर जटिलताओं से पीड़ित था। जिसके कारण वह इलाज के लिए मक्का के अस्पताल में ही भर्ती रहा।

अब्दुल्ला नाम के इस बच्चे को वेंटिलेटर पर रखा गया था और अस्पताल में 46 दिनों तक नवजात शिशु की देखभाल में विशेष सलाह देने वाले डॉक्टरों और सलाहकारों की निगरानी में रखा गया था। इसके बाद, सामाजिक सेवा विभाग की देखरेख में बच्चे को विशेष देखभाल में स्थानांतरित कर दिया गया।

हाजरा ने पाकिस्तान के दक्षिण-पश्चिम क्वेटा शहर से शनिवार को अरब न्यूज़ को बताया, “शुरुआत में, मैं अपने बच्चे को लेकर बहुत चिंतित थी, लेकिन अस्पताल प्रशासन हमारे संपर्क में रहा। वे मुझे वीडियो पर अब्दुल्ला दिखाते थे और हमें उनकी तस्वीरें भी भेजते थे। उन्होंने कहा, “हम सऊदी सरकार, अस्पताल के अधिकारियों, डॉक्टरों, नर्सों और उनके सहयोग के लिए जेद्दा में पाकिस्तानी वाणिज्य दूतावास के लिए आभारी हैं।”

गुरुवार को मक्के में मैटरनिटी एंड चिल्ड्रन हॉस्पिटल ने अब्दुल्ला को पूरे साल उनकी देखभाल करने के बाद पाकिस्तानी वाणिज्य दूतावास के एक प्रतिनिधिमंडल को सौंप दिया।

अब्दुल्ला के पिता, हैदर, जो क्वेटा के एक छोटे से क्लिनिक में एक डिस्पेंसर हैं, ने भी सऊदी सरकार और पाकिस्तानी मिशन के समर्थन के लिए उनका आभार व्यक्त किया। हैदर ने अरब न्यूज़ को बताया, “हमारा बच्चा एक साल तक इलाज के दौरान रहा लेकिन हमसे एक पैसा भी नहीं लिया गया। सभी खर्चों पर सऊदी सरकार ने ध्यान दिया।”

पाकिस्तानी वाणिज्य दूतावास के सामुदायिक कल्याण अधिकारी, साकिब अली खान, जिन्होंने गुरुवार को अस्पताल से लड़का प्राप्त किया, उन्होने बताया, “पाकिस्तानी वाणिज्य दूतावास अस्पताल के साथ-साथ बच्चे के माता-पिता के संपर्क में था। उन्होंने सभी चिकित्सा सुविधाएं प्रदान कीं और अब्दुल्ला को पूरी देखभाल में रखा। अब वह पूरी तरह से ठीक है और एक साल का है।“

उन्होने कहा, “पाकिस्तानी वाणिज्य दूतावास अस्पताल के साथ-साथ बच्चे के माता-पिता के संपर्क में था। उन्होंने सभी चिकित्सा सुविधाएं प्रदान कीं और अब्दुल्ला को पूरी देखभाल में रखा। अब वह पूरी तरह से ठीक है और एक साल का है।“