india

india

100 साल पुराने भारत के पुश्तैनी संपत्ति के मामले में पाकिस्तान की सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाया है. जिसके तहत संपति को इस्लामिक कानून के तहत उतराधिकारियों में बराबर-बराबर बांटने का आदेश दिया है.

ये केस 1918 का है. जो ब्रिटिश शासन की राजस्थान कोर्ट में शुरू हुआ था. राजपुताना राज्य के भावलपुर की 700 एकड़ जमीन के बंटवारे का ये केस पुरे 100 सालों तक चला.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

बंटवारे से पहले भावलपुर राजपुताना राज्य का हिस्सा रहा तो वहीँ बंटवारे के बाद ये पाकिस्तान के पंजाब प्रांत का एक शहर बन गया. साल 2005 में ये केस सुनवाई के लिए पाकिस्तान की सुप्रीम कोर्ट में पहुंचा.

याचिकाकर्ता के अनुसार, उनके बड़े शाहबुद्दीन और शेर खान के बेटे ही इस विवादित जमीन के असली मालिक हैं. शहाबुद्दीन का सन् 1918 में ही निधन हो गया था और तभी से यह विवाद चला आ रहा है.

ऐसे में अब चीफ जस्टिस ऑफ पाकिस्तान मियां साकिब निसार की अध्यक्षता वाली तीन जजों की बेंच ने मामले में संपत्ति सभी उत्तराधिकारियों को इस्लामिक कानून के तहत बराबर बांटने का फैसला दिया है.

Loading...