isl

isl

ख़त्म-ए-नबुवत कानून में बदलाव को लेकर राजधानी इस्लामबाद में प्रदर्शन कर रहे सुन्नियों पर पाक सेना और पुलिस की कार्रवाई के बाद हिंसा भडक उठी है. जिसमे अब तक 6 लोगों की मौत हो गई और 200 से अधिक लोग घायल हो गए.  घायलों में  95 सुरक्षाकर्मी भी शामिल है.

इसके साथ ही प्रदर्शन की आग देश के अन्य हिस्सों में भी पहुँच चुकी है. लाहौर और कराची सहित अन्य शहरों में भी संघर्ष हुए. अधिकारियों का कहना है कि इन जगहों से भी कम से कम 150 प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार कर किया गया है.

कानून मंत्री जाहिद हमीद के इस्तीफे मांग को लेकर अड़े तहरीक-ए-लबैक या रसूल अल्लाह (टीएलवाईआर) के प्रमुख खादिम हुसैन रिज़वी ने मांग की है कि कानून मंत्री को इस्तीफा देने होगा, उन्होंने ईशनिंदा का कृत्य किया है. उन्होंने मांग पूरी नहीं होने तक प्रदर्शन को ख़त्म करने से मना कर दिया है.

उन्होंने प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि अमेरिका के कहने पर कानून में बदलाव किया जा रहा है. उन्होंने मौजूद अधिकारियों से कहा कि ट्रम्प तुम्हे ईशनिंदा कानून में बदलाव को कहता है और तुम उसका हुक्म भी मान रहे हो.

प्रदर्शनकारियों  से निपटने के लिए 8,000 पुलिस अफसरों को नियुक्त किया गया है. साथ ही अर्धसैनिक बलों को भी नियुक्त किया गया है. जो आंसू गैस, वाटर केनन का इस्तेमाल कर रहे है. प्रदर्शनकारियों के दर्जनों टेंट को जला दिया गया.

इसी बीच खबर है कि प्रदर्शनकारियों ने सियालकोट जिले के पासर में कानून मंत्री हामिद के घर पर भी हमला किया. हमले के समय कानून मंत्री और न ही उनके रिश्तेदार मौजूद थे. इसी के साथ गवर्निंग पार्टी के एक अन्य सदस्य, मियां जाविद लतीफ पर हमला किया गया. रावलपिंडी में प्रदर्शनकारियों ने पूर्व गृह मंत्री निसार अली खान के घर के प्रवेश द्वार को क्षतिग्रस्त कर दिया.

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें