पाकिस्तान ने आज कश्मीर के दो भारतीय व्यक्तियों को स्वदेश भेज दिया जो गलती से नियंत्राण रेखा पार कर पाकिस्तान पहुँच गए थे.

सुरक्षा अधिकारियों ने कहा कि 23 वर्षीय बिलाल अहमद जुलाई, 2015 में और 24 वर्षीय अरफाज यूसुफ जनवरी, 2014 में गलती से नियंत्राण रेखा पार कर पाकिस्तान आ गये थे. दोनों तब से यहां फंसे हुए थे. सभी औपचारिकताएं पूरी कर लेने के बाद उन्हें भारतीय अधिकारियों को सौंप दिया गया. पाकिस्तानी अधिकारियों ने उन्हें उपहार स्वरूप कपड़े, स्वेटर, बैग, जूते और मिष्ठान दिये.

शनिवार को पाकिस्तान ने करीब तीन साल के लंबे इंतजार के बाद उड़ी सेक्टर में अमन कमान सेतु पर दोनों को भारत के हवाले किया हैं. इस मौके पर दोनों युवकों के परिजन भी मौजूद थे. यूसुफ जनवरी 2014 में चिलयां सेक्टर में बर्फ के बीच रास्ता भटकते हुए एलओसी पार जा पहुंचा था जबकि बिलाल जुलाई 2015 में निकरू इलाके में मवेशी चराते गुलाम कश्मीर की सरहद में दाखिल हो गया था.

दोनों युवकों के सरहद पार करने की सूचना के बाद भारत ने पाकिस्तानी अधिकारियों से उन्हें वापस करने के लिए संपर्क किया था, लेकिन बात नहीं बनी. कुछ दिन पहले फिर यह प्रक्रिया शुरू हुई और शनिवार को पाकिस्तानी सेना और चकोटी, मुजफ्फराबाद के प्रशासनिक अधिकारियों का एक दल दोनों युवकों को लेकर अमन कमान सेतु पर पहुंचा.

अमन कमान सेतु के ठीक मध्य में दोनों तरफ के सैन्य अधिकारियों की पहले एक फ्लैग मीटिंग हुई. इसके बाद युवकों को सौंपने की प्रक्रिया पर काम हुआ. यह सारी औपचारिकताएं लगभग एक घंटे में पूरी हुई.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें