इस्‍लामाबाद : पाकिस्‍तान के पंजाब प्रांत में एक सुनसान हाइवे पर महिला के साथ हुए सामूहिक दुष्‍कर्म के पूरा देश भड़का हुआ है। ऐसे में अब पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने खुद आगे आकर बलात्कारियों को सरेआम फांसीदेने और नपुंसक बनाने की वकालत की है।

खान ने कहा कि सबसे खराब यौन अपराधों को सार्वजनिक रूप से लटकाकर दंडनीय होना चाहिए, लेकिन इसने यूरोपीय संघ जैसे मौत की सजा का विरोध करने वाले भागीदारों के साथ व्यापारिक सौदों को प्रभावित किया। खान ने पाकिस्तानी न्यूज स्टेशन चैनल 92 के साथ एक साक्षात्कार में कहा, “मुझे क्या लगता है कि रासायनिक संचलन यानि अंडकोश निकालना होना चाहिए, मैंने पढ़ा है कि यह कई देशों में हो रहा है।”

खान ने कहा, “उन्हें (बलात्कारी) को अनुकरणीय दंड दिया जाना चाहिए। मेरी राय में, उन्हें चौक [चौराहे] पर लटका देना चाहिए।” उन्होने कहा, “जिस तरह से हत्याओं को पहली डिग्री, दूसरी डिग्री और तीसरी डिग्री के रूप में वर्गीकृत किया जाता है, बलात्कार को भी इस तरह से वर्गीकृत किया जाना चाहिए, और पहली कक्षा के बलात्कारियों को पूरी तरह से जातिगत और अक्षम किया जाना चाहिए।”

बता दें कि यह घटना लाहौर-सियालकोट मार्ग पर गुज्जरपुरा इलाके के पास बुधवार रात की है, जब महिला खुद कार ड्राइव कर अपने दो बच्‍चों के साथ लाहौर से गुजरांवाला जा रही थी। इसी बीच उसकी गाड़ी में कुछ खराबी आ गई, जिस पर उसने अपने एक रिश्‍तेदार को फोन किया। इस बीच महिला ने पुलिस को भी इमरजेंसी फोन किया, लेकिन इसी बीच कुछ लोग वहां आ गए और वे महिला को जबरन खेतों में ले गए, जहां उन्‍होंने उसके साथ रेप किया। महिला का रिश्‍तेदार जब वहां पहुंचा तो उसने महिला की हालत देखी। रोती बिलखती महिला ने उसे बताया कि दरिंदों ने उसके साथ क्‍या किया।

इस बीच लाहौर कैपिटल सिटी पुलिस ऑफिसर (CCPO) उमर शेख के बयान के बाद लोगों का गुस्‍सा और भड़क गया, जिसमें उन्‍होंने महिला पर ही सवाल उठाए कि इतनी रात को आखिर वह अकेले जा क्‍यों रही थी। उन्‍होंने यह भी कहा कि पाकिस्‍तानी समाज इतनी रात में अपनी मां-बहनों को घर से बाहर यूं अकेले निकलने की अनुमति नहीं देता। लाहौर पुलिस चीफ के इस बेतुके बयान पर बवाल और बढ़ा, जिसमें महिलाओं ने बढ़-चढ़कर हिस्‍सा लिया। अब लोगों की बढ़ती नाराजगी के बीच उमर शेख ने सोमवार को पीड़‍िता से माफी मांगी है।

विज्ञापन