pak

इस्लामाबाद। भारत में नोटबंदी लागू होने के बाद पाकिस्तान में इससे सबक लेने की मांग उठी थी। वहां की संसद सीनेट ने सोमवार को एक प्रस्ताव पारित करके पांच हजार रुपये का नोट बंद करने का प्रस्ताव पारित कर दिया।

इस कार्रवाई से काले धन पर रोक लगाई जा सकेगी। पाकिस्तान मुस्लिम लीग के सदस्य उस्मान सैफउल्ला खान ने इससे संबंधित प्रस्ताव सीनेट में रखा जिसे उच्च सदन में बहुमत से पारित कर दिया गया।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

प्रस्ताव के समर्थन में कहा गया कि पांच हजार रुपये का नोट बंद किए जाने से लोगों में अपना धन बैंक में रखने की आदत को बढ़ावा मिलेगा। साथ ही समानांतर अर्थव्यवस्था का आकार भी छोटा होगा।

नोटबंदी के इस फैसले से तीन से पांच साल के भीतर देश की अर्थव्यवस्था दुरुस्त हो जाएगी। कानून मंत्री जाहिद हामिद ने कहा, इस नोटबंदी से बड़ी समस्या सामने आएगी।

इसके बंद होने से लोग विदेशी मुद्रा रखने लगेंगे। उन्होंने बताया कि इस समय पाकिस्तान में 3.4 लाख करोड़ रुपये मूल्य के नोट बाजार में हैं।

इनमें से 1.02 लाख करोड़ रुपये के पांच हजार के नोट हैं। देश में यह नोटबंदी कबसे लागू होगी, इस बारे में अभी सरकार ने घोषणा नहीं की है।

Loading...