हाल ही में होली के कार्यक्रम में शामिल होने के कारण पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ के खिलाफ कुफ्र का फतवा जारी हुआ हैं.

पाकिस्तान के अहिल सुन्नत व जमाअत और सुन्नी इत्तेहाद परिषद के नेता अल्लामा अशरफ जलाली ने कहा  कि प्रधान मंत्री ने इस्लाम की न केवल निंदा की है बल्कि पाकिस्तान के ‘वैचारिक आधार’ की भी निंदा की है. 14 मार्च को प्रधान मंत्री शरीफ ने देश में अल्पसंख्यकों के लिए एक साहसिक, प्रगतिशील और समावेशी संदेश दिया था, उन्होंने कहा था “कोई भी दूसरों को एक निश्चित धर्म अपनाने के लिए बाध्य नहीं कर सकता”

इस मौके पर नवाज ने कहा, ‘खुदा किसी शासक से यह नहीं पूछेगा कि उसने एक खास धर्म और तबके के लोगों के लिए क्या किया खुदा मेरे जैसे इंसानों से पूछेगा कि हमने उसके बनाए इंसानों के लिए क्या किया.’ नवाज के इसी भाषण को इस्लाम की अवमानना बताते हुए जलाली ने PM द्वारा सार्वजनिक तौर पर माफी मांगे जाने की मांग की है.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?