विश्व प्रसिद्ध कटास राज मंदिर में महाशिवरात्रि मनाने के लिए पाकिस्तान पहुंचे भारतीयों को दोनों देशों के बीच का तनाव के चलते विरोध का सामना करना पड़ा हैं. जिसके कारण 237 सदस्यों का दल यात्रा को बीच में ही छोड़कर लौट आया.

केंद्रीय सनातन धर्मसभा ने पाकिस्तान स्थित हिंदुओं के प्राचीन तीर्थस्थल श्रीकटास राज के दर्शन के लिए वीजा आवेदन किया था. जिसके बाद 237 सदस्यों का दल 22 फरवरी को पाकिस्तान की यात्रा पर गया था. ये यात्रा 28 फरवरी को खत्म होनी थी. लेकिन दो दिन पहले ही ये सभी भारत लोट आये.

पाकिस्तान से लौटे मेरठ के राम कुमार अग्रवाल ने बताया कि 22 फरवरी से शुरू यात्रा के अगले दिन वे लाहौर में रुके इसके बाद सभी को चकवाल जिले स्थित श्रीकटास राज मंदिर ले जाया गया. दर्शन करवाए गए. इस बीच, स्थानीय लोगों ने भारतीय दल का विरोध शुरू कर दिया. लोगों ने लाहौर में धरना-प्रदर्शन कर दल को वापस भारत भेजने की मांग शुरू कर दी.

विरोध से घबराए पाक फौजियों और पुलिस के अफसरों ने उन्हें अपने घेरे में रखा. उन्हें एक गुरुद्वारे में टिकाया गया, वहां भी उनका विरोध हुआ. पाक अफसरों ने 25 फरवरी को लाहौर के एक गुरुद्वारे में श्रद्धालुओं को ठहराया. दिन भर किसी को भी बाहर निकलने नहीं दिया गया. पाबंदी से परेशान होकर दल ने वापस लौटने की घोषणा कर दी.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें