पाकिस्तान: इमरान सरकार ने की हज पर सब्सिडी खत्म, संसद में ख़ूब हुआ हंगामा

11:23 am Published by:-Hindi News

इस्लामाबाद | पाकिस्तान की इमरान खान सरकार ने हज यात्रा पर दी जाने वाली सब्सिडी को खत्म कर दिया है। मंत्रिमंडल की गुरुवार को हुई बैठक में हज नीति-2019 को मंजूरी दी गई। इसमें हज सब्सिडी खत्म करने का निर्णय लिया गया। पाकिस्तान में पूर्ववर्ती पीएमएल-एन सरकार के समय हज यात्रियों को 45 हजार रु. की सब्सिडी दी जाती थी।

इमरान ख़ान की सरकार ने सत्ता में आने के बाद इस हफ़्ते अपनी पहली हज पॉलिसी जारी की। इसके तहत अब एक पाकिस्तानी को इस साल हज पर जाने के लिए चार लाख 76 हज़ार पाकिस्तानी रुपए देने होंगे जबकि पिछले साल ये रक़म दो लाख 80 हज़ार रुपए थे। इसको लेकर पाकिस्तानी संसद में ख़ूब हंगामा हुआ।

अख़बार नवा-ए-वक़्त के अनुसार विपक्षी पार्टी जमात-ए-इस्लामी के एक सांसद मुश्ताक़ अहमद ने कहा कि सरकार ने हज यात्रियों पर ड्रोन हमला किया है। सांसद ने कहा कि सरकार ने हज पर कोई सब्सिडी नहीं दी। उनके अनुसार धार्मिक मामलों के मंत्री ने अपनी रिपोर्ट में हज सब्सिडी देने की अपील की थी लेकिन इमरान ख़ान की सरकार ने अपने ही मंत्री की सिफ़ारिश को ठुकरा दिया।

imra44

अख़बार लिखता है कि सांसद मुश्ताक़ अहमद ने सरकार पर चुटकी लेते हुए कहा, ”मदीना की रियासत क़ायम करने का दावा करने वाले लोग, अब लोगों को मक्का और मदीना जाने से रोक रहे हैं।”

ग़ौरतलब है कि प्रधानमंत्री बनने के बाद अपने पहले भाषण में कहा था कि इस्लाम के पैग़म्बर हज़रत मोहम्मद ने जिस तरह से मदीना में शासन किया थी उसी तर्ज़ पर वो पाकिस्तान को चलाना चाहते हैं। विपक्ष के हमले का जवाब देते हुए संसदीय कार्य मंत्री अली मोहम्मद ख़ान ने कहा कि सऊदी अरब में ही हज का ख़र्च बढ़ गया है इसलिए हज यात्रियों से ज़्यादा पैसे लिए जा रहे हैं।

अख़बार जंग के अनुसार धार्मिक मामलों के मंत्री नूरुल हक़ क़ादिरी ने कहा कि ”रियासत-ए-मदीना का मतलब ये नहीं कि लोगों को मुफ़्त में या सब्सिडी देकर हज कराया जाए।”उन्होंने कहा कि सब्सिडी लेकर हज पर जाना हज की बुनियादी भावना के ही ख़िलाफ़ है।

खानदानी सलीक़ेदार परिवार में शादी करने के इच्छुक हैं तो पहले फ़ोटो देखें फिर अपनी पसंद के लड़के/लड़की को रिश्ता भेजें (उर्दू मॅट्रिमोनी - फ्री ) क्लिक करें