चार साल से पाकिस्तान में कैद मुंबई निवासी हामिद अंसारी की रिहाई सुनिश्चित हो गई हैं. उनकी चार साल की सज़ा पपूरी हो गई हैं. उन्हें अब भारत लाने की तैयारी की जा रही हैं.

हामीद की कहानी शाहरुख़ खान की फिल्म ‘वीरजारा’ की तरह जिसमे शाहरुख़, प्रीती जिंटा से मिलने पाकिस्तान पहुँचते हैं लेकिन उन्हें गिरफ्तार कर लिया जाता हैं. और उन्हें एक लम्बा अरसा जेल में गुजारना पड़ता हैं. इसी तरह भोपाल के कोहेफिजा के रहने वाले कंप्यूटर इंजीनियर हामिद अंसारी, 2012 में अपनी प्रेमिका से मिलने अफगानिस्तान से होता हुआ अवैध रूप से पाकिस्तान पहुंच गए थे. लेकिन उन्हें पाकिस्तानी रेंजरों ने पकड़ लिया और गैर कानूनी तरीके से देश में घुसने का मुकदमा चलाया.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

हामिद को तीन साल की कैद हुई. 2015 में यह सजा खत्म भी हो गई, लेकिन उसे जेल से रिहा नहीं किया गया. अाखिरकार चार साल तक उसकी मां की कोशिशों के बाद हामिद के पाकिस्तान की जेल से छूटने की खबर आई है. मां फौजिया अंसारी बताती हैं कि बेटे की रिहाई के लिए वे सरकारी कार्यालयों के चक्कर काटती रहीं. दर-दर भटककर भी कहीं कोई सुनवाई नहीं हो रही थी. कई भारतीय और पाकिस्तानी अधिकारियों से संपर्क करने की कोशिश करती रहीं, लेकिन कहीं से कोई उम्मीद नजर नहीं आई. इसी दौरान समाचार पत्रों और न्यूज चैनलों में रजमान की कहानी सुनी तो लगा उनका बेटा भी घर लौटेगा.

रमजान की मुहिम चलाने वाले आबिद से संपर्क कर उन्होंने अपने बेटे की पूरी कहानी उन्हें सुनाई. इसके बाद आबिद ने फेसबुक और ट्वीटर अकाउंट पर पाकिस्तान और भारत के हुक्मरानों से संपर्क किया. इस मामले में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने भी पाकिस्तान सरकार से हामिद को छोडऩे को कहा. तब कहीं जाकर पाकिस्तान सरकार ने हामिद को छोडऩे का फैसला लिया.

सोशल एक्टिविस्ट सैय्यद आबिद हुसैन ने मामले में कहा कि हामिद की मां ने मुझसे एक साल पहले संपर्क किया था. मैंने उन्हें बताया कि आपकी मदद सोशल मीडिया के मार्फत हो सकती है. इसके अगले दिन मैंने ट्विटर पर #helphamid ट्रेंड बनाया. ट्रेंड बनते ही इस पर नेशनल स्तर पर कमेंट आने लगे. फेसबुक से भी अधिकारियों से संपर्क किया.
Loading...