pakistan india fishermen
Indian fishermen released from Malir jail wave from train at a railway station in Karachi on October 29, 2017. Pakistan on October 29 released 68 Indian fishermen held for trespassing into its territorial waters, officials said. Indian and Pakistani fishermen are frequently detained for illegal fishing since the Arabian Sea border is not clearly defined and many boats lack the technology to fix their precise location. / AFP PHOTO / RIZWAN TABASSUM
pakistan india fishermen
Indian fishermen released from Malir jail wave from train at a railway station in Karachi on October 29, 2017.

दोनों देशों के बीच चल रहे तनाव में पाकिस्तान ने बड़ा कदम उठाते हुए भारत के 68 मछुआरों को रिहा किया है. ये सभी सिंध प्रांत की जेल में बंद थे.

29 अक्तूबर को भारतीय मछुआरों को जेल से रिहा करने के बाद सिंध प्रांत के पुलिस प्रवक्ता नसीम सिद्दिकी ने जानकारी दी कि पाकिस्तान के गृह मंत्रालय का निर्देश मिलने के बा इन्हें रिहा किया गया. मछुआरों को एक ट्रेन से लाहौर रवाना किया गया, जहां से उन्हें वाघा सीमा ले जाया जाएगा और भारतीय अधिकारियों को सौंप दिया जाएगा.

ध्यान रहे भारत और पाकिस्तान के बीच अरब सागर में सीमा के निर्धारित नहीं होने से दोनों देश नियमित रूप से एक-दूसरे देशों के उन मछुआरों को गिरफ्तार करते रहते हैं, जो मछली पकडऩे के लिए जल सीमा पार कर जाते हैं.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

सिद्दिकी ने बताया कि जुलाई में भी 78 भारतीय मछुआरों को लांधी जेल से रिहा किया गया था. उससे पहले दिसंबर और जनवरी में कुल 438 भारतीय मछुआरों को रिहा किया गया था, बावजूद अब भी करीब 200 भारतीय मछुआरे अब भी इस जेल में बंद हैं.

इसी तरह से भारत की जेलों में भी पाकिस्तानी मछुआरें बंद है. एक अनुमान के मुताबिक़ 185 के करीब पाकिस्तानी मछुआरें भारतीय जेलों में है.