Monday, October 18, 2021

 

 

 

फ्रांस के विरोध में इस्लामाबाद में भारी विरोध-प्रदर्शन, राजधानी को करना पड़ा सील

- Advertisement -
- Advertisement -

पाकिस्तान के अधिकारियों ने राजधानी इस्लामाबाद में एक बड़ी सड़क को सोमवार को दूसरे दिन के लिए सील कर दिया क्योंकि एक धार्मिक पार्टी ने फ्रांस-विरोध प्रदर्शन को तेज कर दिया।

पड़ोसी शहर रावलपिंडी में एक रैली जो रविवार को हुई। जिसमे 5,000 लोगों ने हिस्सा लिया था। सोमवार को खत्म हो गई। जिसके बाद लगभग एक हजार प्रदर्शनकारी सड़क पर इकट्ठा हुए और उन्हें राजधानी में प्रवेश करने से रोका गया।

यात्रियों को शहर में आने के लिए वैकल्पिक मार्गों के जरिए लंबी दूरी की यात्रा करनी पड़ी। रैली के आयोजकों को एक-दूसरे के साथ समन्वय स्थापित करने से रोकने के लिए 24 घंटे से अधिक समय तक निलंबित रहने के बाद, सोमवार को मोबाइल फोन सेवाएं बहाल कर दी गईं।

फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रोन की इस्लाम पर हालिया टिप्पणी के जवाब में पाकिस्तान में पिछले कुछ हफ्तों में छोटे और बिखरे हुए विरोध प्रदर्शन हुए। पाकिस्तान ने यूरोपियन नेशन के समक्ष “व्यवस्थित इस्लामोफोबिक अभियान” नाम से एक शिकायत भी दर्ज कराई है।

वहीं प्रधानमंत्री इमरान खान ने फ्रांसीसी राष्ट्रपति पर मुस्लिम धर्म पर हमला करने का आरोप लगाया है और इस्लामिक देशों से आग्रह किया है कि वे यूरोप में बढ़ते दमन को रोकने के लिए मिलकर काम करें।

रविवार का मार्च मौलवी खादिम हुसैन रिज़वी द्वारा आयोजित किया गया था, जिनकी पार्टी तहरीक-लबिक पाकिस्तान (टीएलपी), इस मुद्दे पर हिंसक विरोध के लिए जानी जाती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles