तेल और लोन पर पाबंदी के बीच पाकिस्तान सेना प्रमुख करेंगे सऊदी का दौरा

पाकिस्तान के सेना प्रमुख इस सप्ताह के अंत में सऊदी अरब का दौरा करेंगे। ये दौरा ऐसे समय में हो रहा है जब कश्मीर के मुद्दे पर पाकिस्तान की और से ओआईसी की आलोचना की जा रही है।

बीते सप्ताह पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह ने कहा, “अगर आप इस्लामिक विदेश मंत्रियों की बैठक नहीं बुला सकते हैं, तो मैं प्रधानमंत्री इमरान खान से उन इस्लामिक देशों की बैठक बुलाने के लिए मजबूर हो जाऊंगा जो कश्मीर के मुद्दे पर हमारे साथ खड़े होने और पीड़ित कश्मीरियों का समर्थन करने के लिए तैयार हैं।”

इस टिप्पणी के बाद खबर सामने आई कि 2018 में सऊदी अरब ने पाकिस्तान को भुगतान संकट के संतुलन में मदद करने के लिए $ 3bn ऋण और $ 3.2bn तेल ऋण सुविधा दी थी। उस पर रोक लगा दी है। ऐसे में अब जनरल क़मर जावेद बाजवा को सऊदी का दौरा करना पड़ रहा है।

पाकिस्तान सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल बाबर इफ़्तिखार ने रायटर को बताया, हालांकि आधिकारिक लाइन यह थी कि इस यात्रा को पूर्व-निर्धारित किया गया था और “मुख्य रूप से सैन्य मामलों को उन्मुख” किया गया था।

पाकिस्तानी वित्त मंत्रालय के एक अधिकारी ने रायटर को बताया, “9 जुलाई 2020 को पूरा हुआ (तेल ऋण सुविधा का पहला वर्ष)। व्यवस्था में विस्तार का हमारा अनुरोध सऊदी पक्ष के विचाराधीन है।” वित्त मंत्रालय के अधिकारियों और सैन्य अधिकारियों में से एक ने कहा,  सऊदी अरब भी $ 1bn वापस मांग रहा है।

विज्ञापन